मेक इन इंडिया : विदेशी कंपनियों की होगी प्राइवेट ट्रेन, 30 हजार करोड़ का निवेश

0

भारतीय रेल 109 रूट पर 151 अत्याधुनिक प्राइवेट ट्रेनें चलाने का मन बना चूका है. लेकिन इस बीच खबर यह है कि देश नही बिकने दूंगा और मेक इन इंडिया के नारे लगाने वाले पीएम मोदी की सरकार इसमें कई दिग्गज विदेशी कंपनियों को भी बोली लगाने के लिए बुला रही है. करीब 30 हजार करोड़ रुपये के निवेश के लिए वर्जिन ट्रेन्स, इटलफेर (Italferr) , रोलिंग स्टॉक मैन्युफैक्चरर बम्बॉर्डियर, अल्सटम, टैल्गो और सीएएफ दौड़ में शामिल हो सकती हैं. 

शिवराज मंत्रिमंडल के विस्तार से नाराज उमा भारती का ट्विट

Train 18 likely to run between Varanasi to New Delhi Narendra Modi ...

अर्न्स्ट ऐंड यंग (EY) इंडिया के पार्टनरराजाजी मेश्राम बताते हैं, ‘

ज्यादातर रोलिंग स्टॉक मैन्युफैक्चरर वैश्विक स्तर के होंगे और रेल मंत्रालय भी शायद यही चाहता है. सवाल यह है कि पैस कहां से आएगा? क्या विदेशी कंपनियों को हिस्सेदारी मिलेगी या देसी कंपनियां होंगी, यह पूरा खाका सामने आने के बाद ही पता चलेगा.’ इस बारे में अंतिम रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (RFP) दस्तावेज सामने आने से पहले संभावित बिडर्स से कई राउंड की बातचीत होगी. मेश्राम ने कहा, ‘बाद में यदि बोली लगाने वाले को कई तरह की अज्ञात समस्याओं का सामना करना पड़ता है, तो भारतीय कंपनियां तमाम तरह की स्थानीय अनिश्चितताओं को बेहतर ढंग से संभाल सकती हैं. लेकिन यदि अंतिम व्यवस्था और निजी ट्रेनों का विवरण काफी बेहतर रहता है तो निश्चित रूप से कई वैश्विक खिलाड़ी इस दौड़ में शामिल हो सकते हैं.’

बड़ा खुलासा: मोस्ट वांटेड दुबे का साथी था यह दारोगा, अब घर पर चला बुलडोजर

Pm Modi Bullet Train Project Stop By Mango And Chiku ...

रेल मंत्रालय अनुसार कई भारतीय कंपनियों ने निजी ट्रेन चलाने में रुचि दिखाई है. उन्होंने उम्मीद जताई कि वर्जिन ट्रेन्स, इटलफेर Italferr जैसी विदेशी कंपनियां भी बोली में शामिल हो सकती हैं. यह बिडिंग दो चरणों में होगी. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने गुरुवार को बताया कि सभी पक्षों से कई दौर की बात के बाद रिक्वेस्ट फॉर क्वालिफिकेशन (RFQ) तय किया गया है और उन्होंने उम्मीद जताई कि ज्यादा से ज्यादा कंपनियां इसमें शामिल होंगी.

भारत-चीन तनाव के बीच मोदी का बॉर्डर पर दौरा  

Share.