भारत बना पांचवां शक्तिशाली देश

0

भारत भी अब महाशक्ति बनने की कगार पर पहुंच रहा है और धीरे-धीरे इस श्रेणी का हिस्सा बनते जा रहा है। सोमवार को भारत ने अग्नि-5 बैलिस्टिक मिसाइल का सातवां सफल परीक्षण किया। इस सफल परीक्षण के साथ ही अब भारत, अमरीका, रूस, फ्रांस और चीन के बाद इस तरह की मिसाइल वाला पांचवा देश बन गया है। जानकारी के अनुसार सोमवार दोपहर 1 बजकर 30 मिनट पर ओडिशा तट के पास डॉक्टर अब्दुल कलाम द्वीप से इस बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया।

इस मिसाइल को देश में ही बनाया गया है और यह 5 से 8 हजार किमी. तक मार करने की क्षमता रखती है। इस मिसाइल का वजन 50 टन है और यह डेढ़ टन तक विस्फोटक पदार्थ अपने साथ ले जा सकती है। अग्नि-5 की लम्बाई 17.5 मीटर और चौड़ाई 2 मीटर है। अग्नि-5 के परीक्षण के दौरान अंतरिम परीक्षण परिषद (आईटीआर) और रक्षा अनुसंधान व विकास संगठन (डीआरडीओ) के वरिष्ठ अधिकारी व वैज्ञानिक मौजूद थे। अग्नि-5 ने निर्धारित समय पर उड़ान भरी और हिन्द महासागर में अचूक निशाना साधा।

अग्नि-5 का 2012 में पहला परीक्षण किया गया था इसके बाद 2013 में दूसरा, 2015 में तीसरा 2016 में चौथा परीक्षण किया गया। साल 2018 में अग्नि-5 के 2 परीक्षण किए जा चुके हैं और यह इस साल का तीसरा परीक्षण है। इससे पहले जनवरी 2018 में इस मिसाइल का पांचवा और जून 2018 में छठवां परीक्षण किया गया था। अग्नि-5 को डीआरडीओ द्वारा बनाया गया है।

अब भारत इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल क्षमता वाला पांचवां देश बन गया है। अब भारत के पास भी एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप तक 5000 किलोमीटर से ज्यादा की मारक क्षमता रखने वाली मिसाइल है। अत्याधुनिक तकनीक से लैस इस मिसाइल की रेंज में चीन, यूरोप और पाकिस्तान सभी आ गए हैं। अग्नि-5 सबसे एडवांस मिसाइल है जिसमे नेवीगेशन, गाइडेंस, वॉरहेड और इंजन की अत्याधुनिक सुविधाएं मौजूद हैं।

भारत ने खरीदी 40,000 करोड़ रुपए की मिसाइल

700 किमी क्षमता वाली अग्नि-1 मिसाइल सफल

मिसाइल से मिसाइल को नष्ट करने वालों में हम ..

Share.