इंटरनेट की रफ़्तार को लगेंगे पंख, जीसैट-11 लॉन्च

0

भारत ने एक और सफलता हासिल करते हुए अंतरिक्ष में अपने सबसे भारी उपग्रह को लॉन्च कर दिया है। भारतीय अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने बुधवार तड़के अब तक के सबसे भारी सैटेलाइट जीसैट-11 को लॉन्च किया। अमरीका के फ्रेंच गुयाना स्पेस सेंटर से इस सैटेलाइट को लॉन्च किया गया। फ्रांस के एरियन-5 रॉकेट की मदद से अब तक के सबसे भारी उपग्रह को लॉन्च किया गया। भारतीय समयानुसार रात 2 बजकर 7 मिनट से 3 बजकर 23 मिनट के बीच इस उपग्रह को लॉन्च किया गया।

गौरतलब है कि जीसेट-11 अब तक का सबसे भारी उपग्रह है, जिसका वजन 5,845 किलोग्राम है। इसे इसरो की बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है। इसरो का यह उपग्रह टेलिकॉम कंपनियों के लिए किसी वरदान से कम साबित नहीं होगा। इस सैटेलाइट की मदद से अब इंटरनेट की रफ़्तार को पंख लग जाएंगे। यह सैटेलाइट इंटरनेट की गति 14 GBPS तक कर देगा।

अपने सबसे वजनी सैटेलाइट जीसैट-11 को लॉन्च करने से पहले भारतीय अनुसंधान संस्थान जीसैट-19 और जीसैट-29 उपग्रह लॉन्च कर चुकी है। अब इसरो जीसैट-20 पर कार्य कर रहा है और जल्द ही इसे लॉन्च करने की योजना बना रहा है। लॉन्च किए गए जीसैट-11 की डिजाइन को बेहतर और ख़ास तरीके से बनाया गया है। इस उपग्रह की कई विशेषताएं हैं, जो अगली पीढ़ी को नया आयाम देने का कार्य करेगी। यह उपग्रह अंतरिक्ष में 15 साल तक काम करेगा और इसमें एक सोलर पेनल भी लगाया गया है। इस उपग्रह में इंटरनेट की गति बढ़ाने की क्षमता है। भारत सरकार ने इसरो की इस सफलता के लिए संस्थान को बधाई दी और कहा कि टेलिकॉम कंपनियों के लिए यह उपग्रह वरदान है।

इसरो की 7 महीनों में 19 मिशन लॉन्च करने की तैयारी

‘इसरो’ बना रहा है नया ठिकाना

इसरो बनाने जा रहा है नैनो एंटीना

Share.