भारत-चीन : राहुल के किस सवाल से इतना तिलमिला गए संबित पात्रा

0

चीन- भारत सीमा विवाद पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के सवाल बीजेपी को चुभ गए है और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने उल्टा उन पर ही चढाई कर दी. राहुल के सवालों से तिलमिलाएं बीजेपी नेता संबित पात्रा ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा कि ये बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा, भारत की एकता के लिए कुछ भी करना पड़े तो हम करेंगे. हम दुखी भी हैं और गुस्सा भी हैं, क्योंकि राहुल जिस तरह से व्यवहार कर रहे हैं वो गैरजिम्मेदाराना है. संबित पात्रा ने कहा कि जिस प्रकार का अविश्वास भारत के प्रति राहुल गांधी दिखाते हैं, वो गैरजिम्मेदाराना है, आप प्रधानमंत्री के बारे में जो बयान देते हैं, वो गलत है. जब आप (राहुल गांधी) कहते हैं कि डरा हुआ प्रधानमंत्री, तब आप एक व्यक्ति पर नहीं देश पर हमले कर रहे हैं.

भ्रष्टाचार व घूस का पैसा राहुल गांधी ...

राहुल गांधी से संबित पात्रा ने पूछा कि क्या आप देश को सोया हुआ बता रहे हैं, जबकि हमारे 20 जवानों ने अपनी शहादत दी है. आप ये बता रहे हैं कि भारत ने अपने सैनिकों को निहत्था छोड़ दिया, आपको ज्ञान नहीं है तो पढ़िए. 2008 में कांग्रेस और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चीन ने एक संधि किया था. संबित पात्रा ने कहा कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की मौजूदगी में एक संधि की गई थी, जिसमें पपार्टी लेवल पर ये हुआ था कि अंतरराष्ट्रीय और स्थानीय मसलों पर दोनों पार्टियां आपस में बातचीत करेंगी. राहुल गांधी इस संधि के बारे में क्यों नहीं बोलते हैं. लेकिन संबित ने यह कही नही कहा की सच में शहीदों का कुसूरवार है कौन ? और सरकार चीन के खिलाफ कर क्या रही है.

India China Tension BJP Sambit Patra Attack on Congress Rahul Gandhi

राहुल  गांधी ने चीन सीमा विवाद पर केंद्र सरकार के नाम एक वीडियो संदेश जारी किया, जिसमें उन्होंने सवाल किया कि चीन ने हमारे शस्त्रहीन सैनिकों की हत्या कर दी इसके लिए कौन जिम्मेदार है? राहुल गांधी ने अपने वीडियो संदेश में कहा, ‘..चीन ने हिंदुस्तान के शस्त्रहीन सैनिकों की हत्या करके बहुत बड़ा अपराध किया, इन वीरों को बिना हथियार के खतरे की ओर किसने भेजा, क्यों भेजा? आखिर कौन जिम्मेदार है? बता दे कि चीन ने  लद्दाख बॉर्डर के पास गलवान घाटी में भारत के 20 सपूतों की जान ले ली. चीनी सैनिकों के साथ खुनी संघर्ष में करीब चार दशक के बाद चीनी बॉर्डर पर किसी भारतीय सैनिक की जान ली. अब इससे देश में गुस्सा और आक्रोश है.

 

 

Share.