महाभियोग का नोटिस खारिज करना गैरकानूनी

0

चीफ जस्टिस के खिलाफ लाए गए महाभियोग को उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने खारिज कर दिया, जिसके बाद इस फैसले पर कांग्रेस ने प्रतिक्रिया दी है| कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने उपराष्ट्रपति के इस फैसले को गैरकानूनी करार कर दिया|

बताया जा रहा है कि कपिल सिब्बल ने प्रेस कॉन्फ्रेस के दौरान उपराष्ट्रपति के फैसले पर सवाल उठाया है| उन्होंने कहा कि उपराष्ट्रपति ने बिना जांच के ही प्रस्ताव खारिज कर दिया| इसे जल्दबाजी में खारिज किया गया और उन्हें ऐसा करने के लिए गलत सलाह दी गई|

उन्होंने आगे कहा कि उपराष्ट्रपति का काम सिर्फ यह देखना होता है कि प्रस्ताव के लिए जितने सांसदों की जरूरत है, उतने सांसदों के हस्ताक्षर हैं या नहीं और बाकी सारी चीजें सही हैं तो उसे आगे बढ़ाएं| इसके बाद फैसला जांच कमेटी के हाथों में सौंप देना चाहिए| उपराष्ट्रपति ने एक कारण बताया है कि जो आरोप लगाए हैं, वो चीफ जस्टिस द्वारा दुर्व्यवहार किए जाने को साबित नहीं करते, अब बिना जांच के कोई चीज कैसे साबित होगी|

Share.