मुसलमानों को हिरासत में ले रहा चीन

0

चीन में मुस्लिम समुदाय के लोगों को हिरासत में लिया जा रहा है। पश्चिमी चीन में मुस्लिम समुदाय के लोगों से चीन की भाषा, कानून, विचार परिवर्तन और अपने समुदाय के लिए आलोचनात्मक लेख लिखने को कहा जा रहा है। कहा जा रहा है कि माओ के शासनकाल के बाद विचार परिवर्तन और चीन की सरकार के प्रति वफादारी के लिए अभियान पहली बार हो रहा है।

एक बिल्डिंग के अंदर रोज घंटों क्लास लगती है। इन क्लास में वैचारिक समझ बनाने के नाम पर मुस्लिमों को चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के समर्थन में गीत गाना, अपने समुदाय के लिए आलोचनात्मक लेख लिखने को कहा जाता है। क्लास में चीन की राजनीतिक विचारधारा पर भाषण भी दिए जाते हैं। क्लास ने निकले लोगों ने बताया कि कार्यक्रम का उद्देश्य किसी भी तरह से इस्लाम के विश्वास को खत्म करना है।

अब्दुसलाम मुहमेत ने बताया कि पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया, जब वह कुरान की कुछ आयतें पढ़ रहा था। मुझे कैंप में ले जाया गया, जहां मेरे साथ 30 और लोग भी थे। हमसे कहा गया कि हम अपनी पुरानी जिंदगी और मान्यताओं को पूरी तरह से भूल जाएं। यह कैंप प्राचीन ओआसिस शहर में बनाया गया है। इस कैंप में लाए जा रहे मुसलमानों का ब्रेनवॉश किया जा रहा है।

बता दें कि पिछले कुछ सालों में चीन में कई ऐसे कैंप लगाए गए हैं। मुस्लिमों को पुलिस पकड़कर लाती है और कैंप में छोड़ देती है। बिना किसी आपराधिक रिकॉर्ड के इन्हें कैंप में रखा जाता है, जहां उन्हें मुस्लिमों मान्यताओं से दूर रहना और चीनी राष्ट्रवाद सिखाया जाता है। चीन में शिनझियांग में एक अनुमान के मुताबिक, लगभग 2.3 करोड़ मुस्लिम हैं। पिछले कुछ वर्षों में इन मुसलमानों पर जबरदस्त पाबंदी लगाई जा रही है।

Share.