बहिष्कार: 3000 होटलों के दरवाजे चीनी नागरिकों के लिए बंद  

0

भारत और चीन के बीच तनाव के बाद गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद देश में चीन के विरोध में स्वर और तेज हो गए है. लोग आक्रोशित हैं और इसी क्रम में अब दिल्ली के होटल और गेस्ट हाउस चीनी नागरिकों के लिए बंद कर दिए गए है. कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के चीनी सामान बहिष्कार के आह्वान पर दिल्ली के बजट होटलों के संगठन दिल्ली होटल एंड गेस्ट हाउस ओनर्स एसोसिएशन (धुर्वा) ने एक बड़ा फैसला लेते हुए यह ऐलान किया. संगठन ने घोषणा की है कि चीन की हरकतों को देखते हुए यह फैसला लिया गया है कि दिल्ली के होटल और गेस्ट हाउस में अब से किसी भी चीनी नागरिक को ठहराया नहीं जाएगा.

दिग्विजय सिंह के खिलाफ FIR से बवाल, यह था उनका गुनाह

Chinese guest are not welcome at Delhi's Hotels and Guest houses ...

दिल्ली होटल एंड गेस्ट हाउस ओनर्स एसोसिएशन के महामंत्री महेंद्र गुप्ता ने यह जानकारी देते हुए बताया कि दिल्ली में लगभग 3000 बजट होटल और गेस्ट हाउस हैं. जिनमें लगभग 75 हजार कमरे हैं. चीन जिस प्रकार से भारत के साथ व्यवहार कर रहा है और हिंसक झड़प में जिस तरीके से भारतीय सैनिक शहीद हुए, उसके कारण दिल्ली के सभी होटल कारोबारियों में बेहद गुस्सा है. उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब कैट ने देश भर में चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का अभियान चलाया है, उसमें दिल्ली के होटल और गेस्ट हाउस कारोबारी भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेंगे और उसी को देखते हुए हमने यह फैसला किया है कि अब से दिल्ली के किसी भी बजट होटल या गेस्ट हाउस में किसी भी चीनी व्यक्ति को ठहराया नहीं जाएगा.

10 पाक क्रिकेटर को कोरोना, इंग्लेंड दौरे पर ECB का बड़ा बयान

चीनी नागरिकों के लिए दिल्ली के ...

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा है कि इससे यह स्पष्ट है कि कैट के जरिए शुरू किया गया चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के आह्वान से देश के विभिन्न वर्गों के लोग जुड़ रहे हैं. उन्होंने कहा की इसी सिलसिले में कैट अब ट्रांसपोर्ट, किसान, हॉकर्स, लघु उद्योग, उपभोक्ता स्वयं उद्यमी, महिला उद्यमी के राष्ट्रीय संगठनों से संपर्क कर उन्हें भी इस अभियान से जोड़ेगा. बता दे कि चीन की गन्दी हरकतों का देश भर में विरोध हो रहा है.

जानिए हाथ में मोदी के लिए 56 इंच की ब्रा और लेटर लिए खड़ी महिला का सच !

दिल्ली में चीनी नागरिकों की नो ...

Share.