Video: ‘जबलपुर की महारानी’ के विसर्जन को लेकर घमासान

0

मध्यप्रदेश के जबलपुर में आज मूर्ति विसर्जन को लेकर प्रशासन और आयोजकों के बीच घमासान मचा है| माता की मूर्ति के विसर्जन के दौरान हुए बवाल ने हिंसक रूप ले लिया| दरअसल, जबलपुर स्थित ग्वारीघाट में देवी की मूर्ति के विसर्जन को लेकर पुलिस और समिति के बीच विवाद हो गया| प्रशासन का कहना था कि मूर्ति का विसर्जन वहां न करते हुए कुंड में किया जाए, लेकिन आयोजक अपनी बात पर अड़े रहे|

विवाद को काबू करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया| इससे नाराज लोगों ने पुलिस के वाहनों को आग के हवाले कर दिया| इस प्रदर्शन की जानकारी मिलते ही कलेक्टर छवि भारद्वाज और पुलिस अधीक्षक सहित कई आला अधिकारी वहां पहुंचे और स्थिति पर काबू पाया| इसके बाद ग्वारीघाट क्षेत्र में धारा 144 लगा दी गई| पुलिस ने पथराव करने वाले दो दर्जन से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया, वहीं समिति से जुड़े लोगों के खिलाफ भी पुलिस ने एफआईआर दर्ज की|

जानकारी के अनुसार, हाईकोर्ट ने नर्मदा नदी में मूर्तियों का विसर्जन करने पर रोक लगा दी थी| विसर्जन के लिए प्रशासन द्वारा एक कुंड का निर्माण किया गया, लेकिन ‘पड़ाव की महारानी’ समिति से जुड़े लोगों ने जबरदस्ती मूर्ति को नर्मदा में विसर्जित करने की कोशिश की| इसके बाद मौके पर हालात बेकाबू हो गए और यहां पत्थरबाजी शुरू हो गई| गौरतलब है कि शहर के लटकारी पड़ाव इलाके में नवरात्र के दौरान महाकाली की प्रतिमा रखी जाती है, जिन्हें ‘जबलपुर की महारानी’ कहा जाता है| दशहरे पर  शहर के सभी पंडालों की मूर्तियां विसर्जित हो जाती हैं, लेकिन यह प्रतिमा  तीसरे दिन हटाई जाती है और और उसके अगले दिन  महाकाली को विसर्जित करने के लिए ग्वारीघाट ले जाया जाता है|

Share.