हाशिमपुरा नरसंहार : दोषियों का सरेंडर, अन्य के खिलाफ वारंट 

0

उत्तर प्रदेश के मेरठ के हाशिमपुरा मामले में दोषी चार जवानों ने आज दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में सरेंडर कर दिया वहीं जिन जवानों ने सरेंडर नहीं किया है, ऐसे 11 अन्य जवानों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया| इस मामले में दोषी करार दिए गए पीएसी के 15 जवानों को सरेंडर करने के लिए आज का समय दिया गया था, लेकिन सभी ने आत्मसमर्पण नहीं किया|

दिल्ली हाईकोर्ट ने पीएसी के 16 जवानों को 31 अक्टूबर को उम्रकैद की सज़ा सुनाई थी, वहीं इनमें से एक जवान की चार महीने पहले मौत चुकी है| दरअसल, पहले निचली अदालत में सभी जवानों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था, लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट ने निचली अदालत के फैसले को पलटते हुए उन्हें दोषी करार दिया| 21 जुलाई 2015 को दिल्ली हाईकोर्ट में हुई सुनवाई में जवानों के खिलाफ कई सबूत पेश किए गए थे| इसके बाद हाईकोर्ट ने जांच एजेंसी से जवाब मांगा था|

इन्होंने दायर की थी हाईकोर्ट में याचिका

पहले दिल्ली की तीस हजारी अदालत ने मार्च में सबूतों के अभाव में हाशिमपुरा नरसंहार के 16 आरोपियों को बरी कर दिया था| इस फैसले के खिलाफ उत्तर प्रदेश सरकार, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) और अन्य पक्षकारों ने हाईकोर्ट में मामला दर्ज करवाया|

गौरतलब है कि हाशिमपुरा में 22 मई 1987 को मस्जिद के सामने चल रही धार्मिक सभा में कई पीएसी जवान पहुंचे और उन्होंने लगभग 50 मुस्लिम समुदाय के लोगों को गिरफ्तार कर लिया| जवानों पर आरोप लगाया गया कि उन्होंने गिरफ्तार किए गए 42 मुस्लिमों की गोली मारकर हत्या कर उनके शवों को नहर में फेंक दिया था|

Share.