पाकिस्तान चुनाव 2018: खाता भी नहीं खोल पाए हाफिज

0

पाकिस्तान का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा, यह बात जल्द ही सामने आ जाएगी| इस बार पाकिस्तान चुनाव में राजनीतिक व्यक्तियों के साथ ही पूर्व क्रिकेटर और आतंकी भी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं| एक तरफ जहां पूर्व क्रिकेटर इमरान खान को ज्यादा सीटें हासिल हो रही है, वहीं आतंकी हाफिस सईद का सूपड़ा साफ़ होते जा रहा है|

पाकिस्तानी जनता ने आतंक को सिरे से नकार दिया है| जनता ने मुंबई हमले के मास्टरमाइंड के एक भी उम्मीदवार को वोट नहीं दिया| अभी तक आतंकी को एक भी सीट नहीं मिली है| यहां तक की हाफिज सईद का बेटा हाफिज तल्हा और दामाद खालिद वलीद भी हार की कगार पर पहुंच गए हैं|

हाफिज सईद ने पाकिस्तान आम चुनाव में इस बार 265 सीटों पर पर अपने उम्मीदवार उतारे थे, जिनमें से एक भी सीट पर उन्हें बढ़त नहीं मिली है| पहले हाफिज सईद की पार्टी मिल्ली मुस्लीम लीग को चुनाव आयोग ने मान्यता देने से मना कर दिया था|
पार्टी की मान्यता नहीं मिलने के बाद हाफिज सईद ‘अल्लाह-ओ-अकबर’ पार्टी के साथ मिलकर चुनावी मैदान में उतरे, लेकिन पाकिस्तान की जनता ने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया|

हाफिज सईद को अभी तक शायद यह लग रहा था कि पाकिस्तान के सभी राजनीतिक दलों में चल रही खिचातानी का उनको फायदा मिलेगा और वे जनता पर राज करेंगे| शरीफ के छोटे भाई और पीएम उम्मीदवार शहबाज शरीफ ने आरोप लगाया है कि यह चुनाव पाकिस्तान के इतिहास के सबसे बेईमानी वाले चुनाव हैं| हम इन नतीजों को खारिज करते हैं|

गौरतलब है कि पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में कुल 342 सदस्य होते हैं| इनमें से 272 को सीधे तौर पर चुना जाता है जबकि शेष 60 सीटें महिलाओं और 10 सीटें धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षित हैं| किसी भी पार्टी को जीत हासिल करने के लिए 137 सीटें हासिल करनी होगी|

यह खबर भी पढ़े – ड्रग्स लेते थे इमरान खान, पत्नी ने किए कई खुलासे

यह खबर भी पढ़े – Photos : आप भी हो जाएंगे इस मंत्री के फैन

यह खबर भी पढ़े – एस्केलेटर और दीवार के बीच फंसा लड़की का सिर, वीडियो

Share.