प्रदेश के सरकारी विभागों में कामकाज ठप

0

मध्यप्रदेश में कर्मचारी इन दिनों अपनी लंबित मांगों को लेकर लगातार हड़ताल पर हैं। चुनावी साल में जहां यह हड़ताल सरकार की मुश्किलें बढ़ा रही है, वहीं जनता को इन हड़तालों के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पूर्ण पेंशन को लेकर मध्यप्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के आह्वान पर सभी सरकारी विभागों के तृतीय श्रेणी कर्मचारी भी दो दिनी हड़ताल पर चले गए हैं। इसके अलावा प्रदेशभर के आरटीओ में भी क्लर्क हड़ताल पर हैं।

पूर्ण पेंशन को लेकर मध्‍यप्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ ने 27 एवं 28 जुलाई को हड़ताल का ऐलान किया है। दो दिन सभी विभागों में कामकाज ठप रहेगा। कर्मचारी संघ की समस्त विभागीय समितियों के अध्यक्षों ने आवेदन भरकर अपने-अपने विभाग प्रमुखों को सौंप दिए हैं। प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों को भी केंद्र के समान मकान किराया भत्ता, वाहन भत्ता, बच्चों की शिक्षा भत्ता दिए जाने की मांग भी की जा रही है।

इसके अलावा कर्मचारी संघ की मांग है कि पूर्ण पेंशन हेतु 25 वर्ष की सेवा मान्य की जाए और नई पेंशन योजना को समाप्त कर पुरानी पेंशन योजना लागू की जाए। इसके अलावा संविदा कर्मचारियों के नियमितिकरण के बाद रिक्त होने वाले पदों पर नियमित नियुक्ति करने की मांग भी कर्मचारी कर रहे हैं।

इधर, भोपाल सहित प्रदेशभर के आरटीओ में कार्यरत क्लर्क भी 2 दिनी हड़ताल पर चले गए हैं। क्लर्कों की इस हड़ताल के कारण ड्राइविंग लाइसेंस, वाहनों के रजिस्ट्रेशन से लेकर परमिट और फिटनेस संबंधी गाड़ियों के काम नहीं हो रहे हैं। हड़ताल की जानकारी नहीं होने पर जो लोग आरटीओ पहुंच रहे हैं, उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

Share.