खस्ताहाल हुई HAL की आर्थिक स्थिति

0

देश की केंद्र सरकार पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल को लेकर लगातार निशाना साध रहे हैं। ऐसे में देश की रक्षा और अंतरिक्ष क्षेत्र की सबसे अग्रणी कम्पनी Hindustan Aeronautics Limited (HAL) आर्थिक तंगी से जूझ रही है। एचएएल का आलम यह है कि उसे पास इतना भी फंड नहीं बचा है कि वह अपने कर्मचारियों को वेतन भी दे सके। एचएएल को अपने कर्मचारियों को तनख्वाह देने के लिए अब क़र्ज़ लेना पड़ा है। यह पूरा मामला उस समय सामने आया है जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी केंद्र सरकार पर एचएएल को दरकिनार करने का आरोप लगा रहे हैं।

दरअसल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी केंद्र की मोदी सरकार पर राफेल सौदे को लेकर जमकर निशाना साध रहे हैं और संसद में इसी मुद्दे को बार-बार उठा रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष का केंद्र सरकार पर आरोप है कि, मोदी सरकार सरकारी कम्पनी HAL को दरकिनार कर अपने दोस्त अनिल अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज को फेवर कर रही है। वहीं इस आरोप के बीच एचएएल के चीफ आर माधवन ने खुद जानकारी दी कि कंपनी ने अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए कर्ज लिया है।

मौजूदा समय की स्थिति को देखते हुए यह बात तो स्पष्ट है कि यदि समय रहते कोई उपाए नहीं किया गया तो आने वाले वक़्त में एचएएल को भारी मुसीबत का सामना करना पड़ेगा। वहीं एक और बात जानकारी में सामने आई है कि एचएएल के पास इन दिनों काम की भी काफी कमी आई है। साल 2003 से अगर एचएएल के आंकड़ों पर नज़र डाली जाए तो पता चलता है कि, साल 2003-04 से 2017-18 के बीच कभी भी एचएएल की स्थिति इतनी खराब हालत में नहीं रही। एचएएल का फंड कभी भी इतने कम स्तर तक कभी नहीं गया। साल 2003-04 में इस कम्पनी का बैलेंस 4 हजार 841 करोड़ रुपए था, जो साल 2015-16 में 4 हजार 284 करोड़ रुपए हो गया। इसके बाद साल 2017 के दिसंबर माह में 921 करोड़ रुपए के शेयर कम्पनी को वापस लेने पड़े थे, जिसकी वजह से कम्पनी के फंड में इतनी भारी कमी आई है। हालांकि मोदी सरकार राहुल के इन आरोपों को सिरे से खारिज करती आ रही है।

प्रभात

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.