सर विश्वेश्वरैया के 157वें जन्मदिवस पर गूगल ने दी श्रद्धांजलि

0

सबसे बड़ा सर्च प्लेटफॉर्म गूगल समय-समय पर डूडल के जरिये महान शख्सियतों को श्रद्धांजलि देता रहता है। आज इंजीनियर्स डे के ख़ास मौके पर महान इंजीनियर सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया को गूगल ने श्रद्धांजलि अर्पित की है। सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया के 157वें जन्मदिवस पर गूगल ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए डूडल बनाया है। सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया आधुनिक भारत के सबसे बड़े इंजीनियर थे इसलिए उनके जन्मदिन को इंजीनियर्स डे के रूप में मनाया जाता है।

गूगल के डूडल में सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया मैसूर पेटा पहने कावेरी नदी पर बने कृष्ण राजा सागर बांध के आगे नज़र आ रहे हैं।15 सितंबर, 1861 को मैसूर में जन्मे मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया को भारत निर्माण के लिए उनके अतुल्य योगदान को देखते हुए 1955 में देश के सर्वोच्च सम्मान ‘भारतरत्न’ से भी सम्मानित किया जा चुका है। सर विश्वेश्वरैया ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मैसूर से हासिल की थी। बाद में उच्च शिक्षा के लिए वे बेंगलुरु के सेंट्रल कॉलेज आ गए। बेंगलुरु से बीए की डिग्री लेने के बाद उन्होंने पुणे के कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में दाखिला लिया।

भारत की सिंचाई प्रणाली के क्रांतिकारी अगुआ कहे जाने वाले सर विश्वेश्वरैया ने नदी-बांधों और पुलों का सफलतापूर्वक डिज़ाइन और निर्माण किया था, जिससे पेयजल प्रणाली भी लागू हो सकी और सिंचाई व्यवस्था दुरुस्त हो सकी। समाज में उनके अतुल्य योगदान के लिए ‘किंग जॉर्ज पंचम’ ने उन्हें ब्रिटिश इंडियन एम्पायर के नाइट कमांडर की उपाधि भी दी थी। सर विश्वेश्वरैया की याद में कई संस्थाओं के नाम उन्हीं के नाम पर रखे गए हैं।

Share.