किसान नेता का ऐलान, ट्रैक्टर रैली कौन रोकेगा देखते हैं

0

किसानों द्वारा 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली के ऐलान से सरकार दुविधा में हैं. मामले पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई में कोर्ट ने दखल देने से इनकार किया है और कहा है कि दिल्ली पुलिस ही इस पर इजाजत दे सकती है.

चीफ जस्टिस ने बुधवार को सुनवाई के दौरान कहा कि हम ट्रैक्टर रैली को लेकर कोई फैसला नहीं सुनाएंगे, कोर्ट किसी रैली को रोके ये बिल्कुल ठीक नहीं है. ऐसे में दिल्ली पुलिस को ही इसपर फैसला लेना चाहिए. यानी अब ट्रैक्टर रैली पर फैसला लेने की गेंद दिल्ली पुलिस के पाले में पहुंच गई है.बुधवार को सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस एस.ए. बोबडे ने अदालत में वकीलों को सलाह दी कि वो किसानों से अपील करें कि ट्रैक्टर रैली को शांति के साथ निकालें.वहीं ट्रैक्टर रैली को लेकर ही किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि हम दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालकर रहेंगे, हमें कौन रोकेगा. दिल्ली भी किसानों की है और गणतंत्र दिवस भी किसानों का है. राकेश टिकैत बोले कि पुलिस हमें क्यों रोकेगी, हम ट्रैक्टरों पर आ रहे हैं और किसी को नुकसान नहीं पहुंचाएंगे. 

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार किसानों के साथ सिर्फ बात कर रही है, कोई निर्णय नहीं ले रही है. कई किसानों को NIA द्वारा नोटिस भी दिया गया है, अगर ऐसा रहा तो सभी किसान एनआईए दफ्तर के बाहर ही धरना देंगे. ट्रैक्टर रैली को लेकर किसानों ने पूर्व सैनिकों से भी सलाह ली है, ताकि गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्टर रैली को निकाला जा सके. इस दौरान किसान अपनी रैली में खेती से जुड़े बिंदुओं को देश के सामने रखेंगे. इस रैली में पूर्व सैनिक, खिलाड़ी भी हिस्सा लेंगे. रैली के दौरान आंदोलन में अपनी जान गवाने वाले किसानों को श्रद्धांजलि दी जाएगी.

Share.