केरल: सबरीमाला मंदिर के पास आई बाढ़, क्या नाराज़ हैं भगवान?

0

केरल में आई भीषण बाढ़ से वहां अभी तक जीवन पटरी पर नहीं आ पा रहा है| अब लोगों द्वारा बाढ़ को भगवान की नाराज़गी का प्रकोप बताया जा रहा है| दरअसल, कुछ समय पहले ही वहां के सबरीमाला मंदिर कोर्ट के निर्देश के बाद महिलाओं का प्रवेश शुरू किया गया था| रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पार्ट टाइम गैर-आधिकारिक निदेशक एस गुरुमूर्ति ने इस बारे में ट्वीट भी किया था और कहा था कि महिलाओं के सबरीमाला मंदिर में प्रवेश के कारण लोगों को बाढ़ का सामना करना पड़ रहा है| अब पंबा नदी के आस-पास रहने वाले लोग भी यही मां रहे हैं कि बाढ़ भगवान की नाराज़गी के कारण आई है|

पंबा नदी के पास हिल टॉप पार्किंग के पास एक रस्टोरेंट चलाने वाले वेणुगोपाल का कहना है कि महिलाओं को पवित्र मंदिर में जाने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए| उन्होंने कहा था, “यदि आप देवताओं द्वारा पहले से लिखे गए नियमों को नहीं मानेंगे तो इसका असर तो होगा ही| अब आप और क्या देखना चाहते हैं? क्या आप चाहते हैं कि लोग मर जाएं?”


उन्होंने आगे कहा था “किसी ने ये नहीं कहा है कि भगवान महिलाओं के नहीं होते हैं, ये वो भूमि है जिस पर भगवान अयप्पन चल कर आए थे| वो यहां ध्यान और मोक्ष के लिए आए थे, यहीं वजह है कि हर वक्त हर किसी को मंदिर में आने की अनुमति नहीं है। महिलाओं को मंदिर में प्रवेश से रोका नहीं गया है| सिर्फ एक खास उम्र की महिलाओं को यहां आने की इजाजत नहीं है|”

गौरतलब है कि सबरीमाला मंदिर में 10 साल से 50 साल की उम्र की महिलाओं के प्रवेष पर रोक लगी हुई थी, जिसके बारे में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है| इस मंदिर में भगवान अयप्पा विराजमान हैं| पंबा नदी में में आई बाढ़ के कारण मंदिर को भी भारी नुकसान हुआ है| पुल के चारों तरफ लगभग 10 फीट की मोटी रेत की परत जमा हो गई है| फुट-ओवरब्रिज, आराम करने वाले क्षेत्र आदि पूरी तरह से तबाह हो गया है|

केरल में बाढ़ के बाद अब ‘रैट वायरस’ का प्रकोप

केरल: मुख्यमंत्री राहत कोष में 1000 करोड़ से ज्यादा जमा

Share.