व्यापारियों के विरुद्ध किसानों का जाम

0

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत के बाद आज 17 दिसंबर को कमलनाथ मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। किसानों से 10 दिनों में कर्ज़ माफी का वादा कर कांग्रेस ने मध्यप्रदेश की सत्ता हासिल की है। हालांकि कर्ज़ माफी के अलावा किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य न मिलना भी किसानों के लिए सबसे गंभीर समस्या है। इसी समस्या के कारण जबलपुर के राष्ट्रीय राजमार्ग 12 को किसानों ने जाम कर दिया। किसानों द्वारा हाईवे को बंद किए जाने के कारण दोनों तरफ वाहनों का जाम लग गया। इस जाम को खुलवाने के लिए प्रशासन को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।

दरअसल, व्यापारियों की मनमानी के कारण सहजपुर स्थित मटर मंडी में बेहद ही कम दामों पर मटर की खरीदारी की जा रही थी। इस वजह से किसान भड़क गए और राजमार्ग पर जाम लगा दिया। जानकारी के अनुसार, जो मटर सुबह 20 रुपए में खरीदी जाती है, शाम होते-होते उसी मटर की कीमत व्यापारियों द्वारा 4 रुपए प्रति किलो कर दी जाती है। प्रतिदिन व्यापारियों द्वारा इसी तरह की मनमानी की जाती है| इस वजह से परेशान किसानों ने व्यापारियों के खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया और हाईवे पर जाम लगा दिया।

जैसे ही जाम की खबर पुलिस को मिली तत्काल शाहपुरा और भेड़ाघाट थाने का स्टाफ मौके पर पहुंचा। अधिकारियों ने किसानों से बातचीत की और उन्हें समझाने का काफी प्रयास किया, लेकिन किसान दाम निर्धारित किए जाने की मांग को लेकर ज़िद पर अड़े रहे। जब रात 9 बजे तक भी किसान नहीं माने तब एसडीएम और अन्य अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और किसानों को समझाने का प्रयास करने लगे। अधिकारियों ने मंडी सचिव और व्यापारियों से बातचीत की। बातचीत के दौरान ही मंडी से मटर लेकर एक ट्रक निकला, जिस पर आक्रोशित किसान टूट पड़े और उसमें तोड़फोड़ कर दी।

अधिकारियों ने 2 घंटे तक पसीना बहाया और चर्चा की। अधिकारियों ने किसानों को आश्वासन दिया कि जब तक मूल्य निर्धारित नहीं होता, तब तक खरीद पर रोक लगाई जाएगी और उचित दाम किसानों को दिलवाया जाएगा। इस आश्वासन पर किसानों ने आंदोलन खत्म किया और राजमार्ग पर यातायात बहाल हुआ।

जबलपुर की हर सीट पर हैं अलग समीकरण, क्या होगा असर ?

Video: ‘जबलपुर की महारानी’ के विसर्जन को लेकर घमासान

जबलपुर : युवक बेच रहे थे पाकिस्तान में बनी पिस्टल

Share.