किताब में मिल्खासिंह की जगह लगा दी गलत फोटो

0

अक्सर देखने में आता है कि स्कूल की किताबों में इतिहास से छेड़छाड़ की जाती है। कुछ न कुछ ग़लत लिखा होता है। ऐसी गलतियां हमारे शिक्षा विभाग को कटघरे में खड़ा कर देती है। शिक्षा का मज़ाक बनाता ताज़ा मामला पश्चिम बंगाल से सामने आया है। यहां स्कूल की किताबों में मिल्खा सिंह की जगह अभिनेता फरहान अख्तर की फोटो छपी है। इसको लेकर सोशल मीडिया पर ममता बैनर्जी और फरहान सोशल मीडिया पर काफी ट्रोल हो रहे हैं।

फरहान ने किया ट्वीट

सूचना मिलते ही फरहान ने पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्रालय को ट्वीट कर जल्द इसे हटाने को कहा। फरहान ने बंगाल के शिक्षा मंत्री के नाम पर ट्वीट कर लिखा, “स्कूल की किताब में मिल्खा सिंह की फोटो छापने में बड़ी गलती हो गई है। पब्लिशर को इस बारे में जानकारी दें और किताब को बदलवा दें।“

यूज़र ने किया था शेयर

गलती उस समय सामने आई, जब एक ट्विटर यूज़र ने इसे शेयर करते हुए लिखा कि पश्चिम बंगाल के स्कूल की एक किताब में मिल्खा सिंह की जगह फरहान अख्तर की तस्वीर लगी हुई है। यह बिल्कुल चौंकाने वाली बात नहीं है। यह अब नियमित घटना बन गई है।

लोकमान्य तिलक पर लिखा गलत शब्द

हाल ही में राजस्थान के माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की पुस्तक में लोकमान्य तिलक को ‘आतंक का पितामह’ बताया गया। सीबीएसई के 8वीं कक्षा कि सामाजिक विज्ञान की किताब में लिखा था कि लोकमान्य तिलक ही राष्ट्रीय आंदोलन को उग्र रास्ते पर ले गए, जिस कारण उन्हें आतंक का पितामह कहा जाता है। किताब में लिखा था कि तिलक का मानना था कि अंग्रेजों के सामने गिड़गिड़ाने से कुछ नहीं होगा। उन्होंने शिवाजी और गणपति उत्सव के सहारे देश में जागृति पैदा की, जिस वजह से वे लगातार ब्रिटेन शासन के निशाने पर थे।

Share.