Video: फिर सामने आई सरकारी अस्पताल की लापरवाही

0

मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार स्वास्थ्य के मामले में लगातार विफल नज़र आ रही है| प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग की विफलताएं लगातार सामने आ रही हैं। सरकार के तमाम दावों को सरकारी स्वास्थ्य तंत्र के जिम्मेदार ही खोखला साबित करते जा रहे हैं| प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ आए दिन लापरवाही की हदें पार करता नज़र आता है|

प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में आलम यह है कि मरीजों के लिए एक्सपायरी डेट वाली दवाई और इंजेक्शन का उपयोग हो रहा है।  ऐसा ही एक मामला कटनी से सामने आया है, जहां सरकारी अस्पताल में मरीजों को एक्सपायरी डेट वाली दवाई दी जा रही है। मामले का खुलासा तब हुआ, जब अस्पताल के स्टाफ ने एक 6 माह के बच्चे को एक्सपायरी इंजेक्शन लगा दिए। परिजन ने जब इसकी शिकायत की तो अस्पताल का स्टाफ बदसलूकी पर उतर आया। परिजन ने अस्पताल की इस गैर जिम्मेदारी की शिकायत करते हुए आपबीती भी बताई।

अस्पताल की इस लापरवाही पर चिकित्सक कन्नी काटते नज़र आए। अस्पताल के सिविल सर्जन का कहना है कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी। उन्होंने स्टाफ से पूछताछ करने की भी बात कही। मामला उछलने के बाद सिविल सर्जन ने जांच के आदेश दिए हैं। सरकारी अस्पतालों की यह लापरवाही चिंता का विषय है।

प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर सरकार ने हमेशा अपनी पीठ थपथपाई है, लेकिन इस तरह के मामले उजागर होने के बाद स्वास्थ्य तंत्र की असली तस्वीर सामने आती है| ऐसे में लापरवाह डॉक्टरों के खिलाफ जिम्मेदार यदि कार्रवाई करे तो आम लोगों की जान से खिलवाड़ को रोका जा सकता है|

Share.