इस स्कूल को देख उड़ जाएंगे होश

0

राजस्थान के अलवर का सरकारी स्कूल सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी चर्चा का विषय बना हुआ है। बच्चों को पढ़ाई के लिए प्रेरित करने और उनके हौसलों को पंख लगाने के उद्देश्य से सरकारी स्कूल अब नए-नए पैंतरे अपना रहे हैं। यहां की एक सरकारी स्कूल को एजुकेशन एक्सप्रेस ट्रेन का स्वरूप प्रदान किया गया था, जो काफी चर्चित रही। इसी तर्ज पर अब अलवर शहर से 16 किमी दूर इंद्रगढ़ गांव में एक सरकारी स्कूल को एजुकेशन एयरलाइंस का स्वरूप प्रदान किया गया है।

एजुकेशन एयरलाइंस के रूप में इस स्कूल को स्मार्ट डिजिटल क्लास रूम का स्वरूप प्रदान किया गया है। स्थापित किए गए इस स्मार्ट डिजिटल क्लास रूम में 50 बच्चे एक साथ डिजिटल पढ़ाई कर रहे हैं। हवाई जहाज के स्वरूप वाले इस क्लास रूम का नाम इंद्र विमान रखा गया है। अब यह क्लास रूम छात्रों के बीच आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। इतना ही नहीं, इस क्लास रूम के चर्चे अब विदेशों में भी होने लगे हैं। इस एजुकेशन एयरलाइंस का निर्माण सहगल फाउंडेशन की मदद से अलवर के सर्व शिक्षा अभियान के जूनियर इंजीनियर राजेश लवानिया ने किया है।

बिलकुल हवाई जहाज की तरह बनाए गए इस क्लास रूम को जो भी देखता है, वह हैरान रह जाता है और यह यकीन करना मुश्किल हो जाता है कि यह कांक्रीट, सीमेंट और ईंटों से बनाया गया है। देखने में हूबहू यह किसी हवाई जहाज से कम नहीं लगता। पूरे देश में यह अपनी तरह का यह पहला नवाचार बताया जा रहा है। बच्चों को बारी-बारी इस क्लास रूम में पढ़ने का अवसर दिया जाता है। इस रूम को पूरी तरह हवाई जहाज की तरह ही तैयार किया गया है, जिसमे प्लेन की तरह ही सीटें लगाईं गई हैं। पढ़ाई के लिए एलईडी व प्रोजेक्टर भी लगाए गए हैं। समाजसेवी संस्था सहगल फाउंडेशन ने इसके निर्माण में लगभग 45 लाख रुपए की लागत लगाई है।

राजस्थान में फिर होंगे चुनाव…

राजस्थान के अगले आलाकमान होंगे गहलोत

राजस्थान शपथ ग्रहण समारोह LIVE

Share.