वाड्रा के ठिकानों पर ईडी की छापेमारी और तोड़फोड़

0

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को रॉबर्ट वाड्रा और उनकी कंपनियों से जुड़े कुछ लोगों के ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की। ईडी की यह कार्रवाई करीब 16 घंटे चली। छापेमारी की कार्रवाई रक्षा सौदे में कुछ लोगों द्वारा कथित रिश्वत के मामले को लेकर की गई।

स्काईलाइट हॉस्पिटलिटी कंपनी के वकील तरबेज का आरोप है कि ईडी दिल्ली के सुखदेव विहार स्थित वाड्रा के ऑफिस में दरवाजे तोड़कर अंदर घुसी और कर्मचारियों को 13 से 14 घंटे तक बंद रखा। उन्होंने आरोप लगाया कि ईडी ने गेट में लगे सीसीटीवी कैमरे भी तोड़ दिए और ऑफिस को पूरी तरह बर्बाद कर दिया। तबरेज ने कहा कि ईडी ने ऑफिस के सभी केबिन के ताले भी तोड़ दिए हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार स्काईलाइट हॉस्पिटलिटी के सुखदेव विहार स्थित कार्यालय में शुक्रवार दोपहर 11 बजे से छापेमारी की कार्रवाई शुरू की। ईडी की छापेमारी यह कार्रवाई 16 घंटे तक चली। वाड्रा के वकील सुमन ज्योति खेतान ने छापेमारी को बदले की राजनीति और दुर्भावनापूर्ण बताया है। उन्होंने कहा कि पांच सालों से केंद्र सरकार मेरे मुवक्किल वाड्रा को डराने, उनकी छवि को नुकसान पहुंचाने का प्रयास किया है।

खेतान ने कहा कि इससे भी ज्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि सरकार या ईडी बार-बार आग्रह करने के बाद भी कार्यालय खोलने के लिए कर्मचारियों का इंतज़ार नहीं कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने अवैध रूप से दरवाजों और तालों को तोड़ दिया और ऑफिस में घुस गए। वहीं ईडी की छापेमारी की कार्रवाई पर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर तीखा हमला किया है। उन्होंने आरोप लगाया कि सीबीआई, इनकम टैक्स व ईडी अब स्वतंत्र जांच एजेंसी की भूमिका की बजाए पीएम मोदी के निजी गुलाम व राजनीतिक दलाल की तरह कार्य कर रहे हैं।

ईडी ने रॉबर्ट वाड्रा को समन जारी किया

कमियों को छिपाने के लिए भेजा समन : वाड्रा

कहां गायब हो जाते हैं ‘रागा’?

Share.