इंदौर में गंगा की मिट्टी से तैयार हो रही दुर्गा प्रतिमाएं

0

शक्ति की भक्ति का पर्व नवरात्रि बुधवार से शुरू हो रहा है। नवरात्रि के दौरान जगह-जगह मां दुर्गा की प्रतिमाओं की घटस्थापना की जाएगी। इंदौर में नवरात्रि को लेकर देवी की भव्य दुर्गा प्रतिमाएं तैयार की जा रही हैं| इन प्रतिमाओं को बंगाल के कारीगर भव्य स्वरूप दे रहे हैं।

इंदौर में नवरात्रि के लिए मां दुर्गा की प्रतिमाओं को अंतिम रूप दिया जा रहा है। शहर के बंगाली कारीगर हर वर्ष ऑर्डर पर इन प्रतिमाओं का निर्माण करते हैं। इन प्रतिमाओं की विशेषता यह है कि ये पूर्णतः पर्यावरण हितैषी हैं यानी इन्हें गंगा की मिट्टी और पूर्ण प्राकृतिक रंगों से निर्मित किया जाता है।

इंदौर में दुर्गा प्रतिमाएं निर्मित करने वाले कलाकार शक्ति पाल बताते हैं कि वे बीते 15 सालों से इंदौर में मूर्तियां निर्मित करते आ रहे हैं। इन मूर्तियों की मांग पहले तो कम होती थी, लेकिन अब अधिकांश लोग ही बंगाली मूर्तियों को स्थापित करते हैं।

शक्ति पॉल के कारखाने में करीब 20 कलाकार बीते 1 माह से इन मूर्तियों के निर्माण का  कार्य कर रहे हैं। इन मूर्तियों के लिए विशेष रूप से गंगा की मिट्टी इंदौर मंगवाई जाती है। इसके अलावा फूलों से बने रंगों और कपड़ों का इस्तेमाल इनकी सजावट के लिए किया जाता है।

बंगाली कलाकारों द्वारा अपने कारखाने में 100 से भी अधिक मूर्तियों का निर्माण किया जाता है, जो कि इंदौर सहित प्रदेशभर में स्थापित होती हैं। बंगाली कलाकार इस कला के जरिये नवरात्रि की अभिन्न परंपरा का एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में संवहन भी करते हैं।  बंगाली कारीगरों की इस कला में माताजी का मनमोहक स्वरूप हमें देखने को मिलता है।

सबसे ऊंची मूर्ति 15 फीट की…

इंदौर में तैयार हो रही दुर्गा प्रतिमाओं में सबसे ऊंची प्रतिमा करीब 15 फीट ऊंचाई और 18 फीट चौड़ाई की है। इस तरह की प्रतिमाओं में माताजी के साथ राक्षस और अन्य देवी-देवताओं की प्रतिमाएं भी होती हैं।

Navaratri 2018: जानिए घटस्थापना का शुभ मुहूर्त, देखें Video

Share.