पूर्व प्रधानमंत्री की प्रतिमा पर पोता गया गोबर

0

भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री, जिन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान देश को कई संकटों से उबारा, आज देश के ही कुछ लोगों ने उनकी प्रतिमा पर गोबर और मिट्टी पोत दी। यह शर्मनाक हरकत गुरुवार सुबह उत्तरप्रदेश के चंदौली की सेंट्रल कॉलोनी की है, जहां लालबहादुर शास्त्री की जन्मस्थली पर लगी उनकी प्रतिमा के मुख पर अज्ञात लोगों ने गोबर व मिट्टी का लेप लगा दिया।  अराजक तत्वों द्वारा की गई इस हरकत की सूचना पुलिस को दी गई तो तुरंत पुलिस मौके पर पहुंची और पूर्व प्रधानमंत्री की प्रतिमा को साफ़ किया गया।

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के चंदौली आने से ठीक पहले इस प्रतिमा पर गोबर और मिट्टी लगाया गया। इसी वजह से पुलिस विभाग को इसकी सूचना मिलते ही पुलिस खेमे में हड़कंप मच गया। लालबहादुर शास्त्री जन्म स्थली सेवा न्यास के सदस्यों ने सूचना मिलने पर काफी दुख व्यक्त किया| इसके बाद तत्काल प्रतिमा की धुलाई की गई। साथ ही लोगों द्वारा पुलिस प्रशासन और सरकार से मांग की गई कि ऐसा घिनौना कार्य करने वाले को अराजक तत्वों को तत्काल गिरफ्तार कर कड़ी कार्रवाई की जाए।

लालबहादुर शास्त्री की साफ-सुथरी छवि के कारण ही विपक्षी पार्टियां भी उन्हें आदर और सम्मान देती है। भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई में देश के दूसरे प्रधानमंत्री 9 साल तक जेल में रहे। स्वतंत्रता की लड़ाई में जब वह जेल में थे, तब उनकी पत्नी चुपके से उनके लिए दो आम छिपाकर ले आई थीं, लेकिन शास्त्रीजी ने खुश होने के बजाय धरना दे दिया। शास्त्रीजी का तर्क था कि कैदियों को जेल के बाहर की कोई चीज खाना कानून के खिलाफ है। 1965 में पाकिस्तान से जंग के दौरान देश में भयंकर सूखा पड़ा।  तब के हालात देखते हुए उन्होंने देशवासियों से एक दिन का उपवास रखने की अपील की।  इन्हीं हालात से उन्होंने हमें ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा दिया।

Share.