सेना को मिली किसी भी मौसम में युद्धक टैंकों को तबाह करने की ताकत ‘ध्रुवास्त्र’ मिसाइल

0

भारतीय सेना को लगातार मजबूत करते हुए सेना को एक और महाताकतवर हथियार मिल गया है. मेक इन इंडिया की तर्ज पर बना यह नया हथियार एंटी टैंक ‘ध्रुवास्त्र’ मिसाइल के नाम से जाना जाता है. इसका सफल परीक्षण किया गया है, ये मिसाइल दुश्मन के खिलाफ अपनी पूरी पॉवर के साथ काम करने में सक्षम हैं. डीआरडीओ की वेबसाइट के अनुसार, ध्रुवास्त्र एक तीसरी पीढ़ी की ‘दागो और भूल जाओ’ टैंक रोधी मिसाइल प्रणाली है, जिसे मॉडर्न हल्के हेलीकॉप्टर पर फिट किया गया है. ये प्रणाली हर मौसम के लिए सक्षम है और विस्फोटक कवच के साथ युद्धक टैंकों को नष्ट कर सकती है.

LIVE: सचिन पायलट गुट को 24 जुलाई तक की मोहलत

‘ध्रुवास्त्र’ मिसाइल के बारें में जाने और भी-

इस मिसाइल का टेस्ट ओडिशा के बालासोर में 15-16 जुलाई को

सेना के अटैक हेलिकॉप्टर ध्रुव पर इसे तैनात किया जाएगा

पत्रकार की हत्या पर राहुल, ममता, माया का आक्रोश

पहले इस मिसाइल का नाम नाग रखा गया था, जिसे बदलकर अब ध्रुवास्त्र किया गया

इस स्वदेशी मिसाइल की क्षमता 4 किमी तक है,

किसी भी विरोधी टैंक को तेजी से खत्म कर सकती है

जिस ध्रुव हेलिकॉप्टर पर ये मिसाइल लगेगी वो भी पूरी तरह से स्वदेशी हेलिकॉप्टर है

ये मिसाइल रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और सेना के लिए बड़ी उपलब्धि है

क्योंकि स्वदेशी मिसाइल के बना लेने के बाद दूसरे देश पर निर्भरता खत्म हो जाएगी।

फर्टिलाइजर घोटाला : अशोक गहलोत के भाई के यहाँ ED की छापेमारी

Share.