निजामुद्दीन दरगाह में महिलाओं के प्रवेश पर फैसला

0

देश में मंदिरों और मजारों में लगी महिलाओं के प्रवेश रोक के खिलाफ आवाज़ उठ रही है। सबरीमाला विवाद के बाद अब दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन दरगाह में महिलाओं के प्रवेश को लेकर हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली हाईकोर्ट ने निजामुद्दीन दरगाह में महिलाओं के प्रवेश को लेकर केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया है।

कोर्ट ने नोटिस जारी कर जवाब भी मांगा है। इसके अलावा कोर्ट ने दिल्ली सरकार और दरगाह ट्रस्ट को भी नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने कहा है कि वे मामले की सुनवाई से पहले सबरीमाला समीक्षा के फैसले का इंतज़ार कर रहे हैं।

अब इस मामले की सुनवाई 11 अप्रैल 2019 को होगी। तब तक कोर्ट ने दिल्ली सरकार, केंद्र और ट्रस्ट से इस मामले पर जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है। महिलाओं के प्रवेश को लेकर एक जनहित याचिका दायर की थी।

क्या है मामला ?

बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट ने यह नोटिस पुणे की कानून की कुछ छात्राओं की याचिका पर सुनवाई के बाद सोमवार को जारी किया। कुछ छात्राओं ने याचिका दायर कर हाईकोर्ट में कहा कि दरगाह के बाहर नोटिस लगा है कि महिलाओं के प्रवेश की अनुमति नहीं है। छात्राओं ने हाईकोर्ट में अपना पक्ष रखते हुए कहा कि उन्होंने 27 नवंबर को दरगाह में प्रवेश करने की कोशिश की, परंतु दरगाह में महिलाओं के प्रवेश पर पाबंदी के बारे में जानकारी मिली। छात्राओं के मुताबिक, उन्होंने दिल्ली पुलिस, दरगाह का प्रबंधन करने वाले ट्रस्ट से दरगाह में प्रवेश के लिए आग्रह किया, परंतु उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। निराश हो कर उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया।

सबरीमाला विवाद पर फिर सुनाया कोर्ट ने फैसला

सबरीमाला विवाद के बीच मंदिर के पुजारी ने कहा कुछ ऐसा कि….

सबरीमाला में फिर पहुंची महिला, हिंसक प्रदर्शन

Share.