दिल्ली:डॉक्टर सैलेरी विवाद चरम पर, धरने पर मेयर और डॉक्टर

0

कोरोना वायरस संकट देश की राजधानी दिल्ली में चरम पर है और केजरीवाल के खिलाफ लगातार जंग लड़ रही है लेकिन अब अरविंद केजरीवाल सरकार की मुश्किलें और बढ़ रही है क्योंकि राजधानी दिल्ली के डॉक्टर सैलरी ना मिलने के मुद्दे को लेकर अब धरना प्रदर्शन पर उतारू हो गए हैं.दिल्ली के अस्पतालों में काम करने वाले कोविड वॉरियर्स हड़ताल पर बैठे हैं और सैलरी की मांग कर रहे हैं. इस बीच सोमवार को दिल्ली के तीनों मेयर भी इस मसले को लेकर मुख्यमंत्री आवास के सामने धरने पर बैठ गए.धरने पर बैठे हुए तीनों मेयर का कहना है कि सरकार को उनसे बात करनी चाहिए, ताकि डॉक्टरों और अन्य एमसीडी कर्मचारियों की सैलरी का मसला सुलझ सके. उत्तरी दिल्ली के मेयर जय प्रकाश, पूर्वी दिल्ली के निर्मल जैन और साउथ दिल्ली की अनामिका सिंह ने धरना प्रदर्शन किया.

तीनों को दिल्ली सचिवालय में मिलने का वक्त दिया गया है. तीनों मेयर से दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन दोपहर दो बजे मुलाकात करेंगे.मेयर्स का कहना है कि दिल्ली सरकार पर 13 हजार करोड़ का बकाया है, जबतक मुख्यमंत्री उनकी बात नहीं सुनेंगे वो धरने पर बैठे रहेंगे.म्युनसिपल कॉर्पोरेशन डॉक्टर एसोसिएशन के RR गौतम के मुताबिक, जबतक सैलरी को लेकर हमारी मांग नहीं मानी जाती है, तबतक वो छुट्टी पर रहेंगे. एसोसिएशन का कहना है कि अगर पिछले तीन महीने की सैलरी नहीं चुकाई जाती है तो सभी स्वास्थ्यकर्मी हड़ताल पर जाएंगे.

बता दें कि NDMC के अंतर्गत आने वाले हिन्दू राव, कस्तूरबा अस्पताल के कर्मचारी सैलरी को लेकर हड़ताल पर बैठे हैं. 22 अक्टूबर से जंतर मंतर पर इनका धरना चल रहा है, आरोप है कि स्वास्थ्यकर्मियों को बीते चार महीने से तनख्वाह नहीं मिली है.

Share.