बैंकों और कंपनियों से ऐसे करें आधार डेटा डिलीट

0

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को आधार कार्ड के संबंध में महत्वपूर्ण फैसला सुनाया था| कोर्ट के फैसले के बाद आधार को लेकर सारी अनिश्चितताएं दूर हो गईं| अब यह तय हो गया है कि कहां आधार अनिवार्य है और कहां नहीं है| कोर्ट के निर्देश के अनुसार, टेलिकॉम कंपनियों, बैंकों, म्युचुअल फंड और इंश्योरेंस कंपनियां आधार कार्ड की मांग नहीं कर सकती हैं| अब इन्हें आधार की सूचनाएं डिलीट करने का आदेश दिया जा सकता है| यदि कोई व्यक्ति चाहे तो बैंकों और निजी कंपनियों से अपना आधार का डेटा डिलीट करने को कह सकते हैं|

एक सरकारी अधिकारी का कहना है कि जैसे वोडाफोन-आइडिया, एयरटेल और रिलायंस जियो जैसी टेलिकॉम कंपनियों के साथ आपका जो डेटा स्टोर है, उसे डिलीट करने को लेकर टेलिकॉम मिनिस्ट्री द्वारा निर्देश जारी होने चाहिए| वहीं बैंकों को आरबीआई या वित्त मंत्रालय द्वारा भी निर्देश दिया जाना चाहिए कि सबका आधार डेटा डिलीट किया जाए|

‘मोबाइल ऑपरेटर्स एसोसिएशन’ के महानिदेशक राजन मैथ्यू का इस बारे में कहना है कि टेलिकॉम कंपनियां सरकार से निर्देश मिलने का इंतजार करेंगी| हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पूरी तरह से लागू करेंगे| अभी टेलिकॉम मिनिस्ट्री से स्पष्टीकरण का इंतजार कर रहे हैं|

ऐसे करें आधार डेटा डिलीट  

यदि आपने बैंक या टेलिकॉम कंपनियों से अपना आधार डेटा लिंक करवा रखा है तो आप आसानी से डीलिंक भी कर सकते हैं| बैंक से डीलिंक करवाने के लिए आपको बैंक जाना पड़ेगा| इसके लिए आप बैंक के कस्टमर केयर से ‘अनलिंक आधार’ का फॉर्म लें और भरकर बैंक में जमा करवा दें| फॉर्म जमा करवाने के 48 घंटे के अंदर आपका आधार बैंक अकाउंट से डीलिंक हो जाएगा|

Share.