मानहानि केस खारिज…

0

मध्यप्रदेश में व्यापम घोटाले में आज सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है, इस फैसले के कारण प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को बड़ा झटका लगा है| कोर्ट ने ट्रायल कोर्ट के आदेश के रद्द करते हुए कहा कि ट्रायल सही तरीके से नहीं चला|

दरअसल, मध्यप्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता केके मिश्रा ने 21 जून 2014  को सीएम शिवराज एवं उनकी पत्नी साधना सिंह पर व्यापमं घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया था| उन्होंने कहा था कि सीएम की ससुराल गोंदिया के 19 परिवहन निरीक्षक भर्ती हुए, साथ ही मुख्यमंत्री निवास से किसी प्रभावशाली महिला द्वारा व्यापमं के आरोपी नितिन महिन्द्रा आदि को 129 फोन कॉल किए गए जिसके बाद मुख्यमंत्री की ओर से मानहानि संबंधी याचिका दायर की गई थी|

बताया जा रहा है कि कोर्ट ने संविधान के तहत दिए विशेष अधिकार 142 के तहत मामले को रद्द किया, इसके पहले जिला अदालत ने केके मिश्रा को दो वर्ष की सजा सुनाई थी, साथ ही 25 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया था| हालांकि उन्हें 50 हजार रुपए की जमानत के बाद रिहा कर दिया था| अब उन्हें इस मामले पर पूरी तरह से राहत मिल गई है|

Share.