गिर के जंगलों में बढ़ रहा शेरों की मौत का सिलसिला

0

गुजरात में शेरों की मौत का सिलसिला लगातार बढ़ता जा रहा है| एक महीने के भीतर ही गिर  के जंगल में 13 शेर दम तोड़ चुके हैं| दरअसल, 12 से 19 सितंबर के बीच 11 शेरों की मौत हुई थी और अब दो शेरों ने फिर दम तोड़ दिया | इन शेरों की मौत भी अमरेली रेंज के दलखनिया में ही हुई है| इसके पहले भी शेरों की मौत अमरेली रेंज के दलखनिया में हुई थी|

वन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि शेर के गले में केलर आड़ी चीप मिली है, जो वन विभाग के जरिये शेर को ट्रैक करने के लिए लगाई जाती है| वहीं, शेर के एक 6 महीने के जिस बच्चे को रेस्क्यू कर जसाधर एनिमल सेंटर ले जाया गया था, उसकी भी मौत हो गई| दरअसल, बच्चा कई दिन से बीमार था, जिसने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया|

क्या है मौत का कारण?

लगातार हो रही शेरों की मौत के बारे में वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने 64 अलग-अलग टीम बनाई है, जो गिर में शेर पर निगरानी रख रही हैं| शुरूआती जांच में डॉक्टर ने शेर की मौत के लिए लंग्स और लिवर के खराब होने की वजह बताई थी, लेकिन बाद में डॉक्टरों ने कहा कि शेरों की मौत किसी बीमारी से नहीं बल्कि वर्चस्व की लड़ाई को लेकर हुई है| मौत का कारण बदलने और इतने कम समय में 13 शेरों की मौत के कारण कई सवाल खड़े हो रहे हैं| सवाल उठाए जा रहे हैं कि यदि शेर बीमारी से नहीं मरे हैं तो वन विभाग जंगल और आसपास के दूसरे जानवरों में वैक्सीनेशन क्यों शुरू कर रहा है|

Share.