शर्मनाक: कोरोना काल में भी शिवराज के समारोह जारी है

0

देश के अन्य राज्यों की तरह इस समय मध्यप्रदेश भी कोरोना से जंग लड़ रहा है. तमाम तरह के सरकारी दावे किये जा रहे है लेकिन कोरोना की अपनी मर्जी सब पर हावी है. इस बिच जनता न सुने तो उस पर पुलिस को बेरहमी से पीटने तक की छुट मप्र की शिवराज सरकार ने दे रखी है जो कुछ हद तक कुछ लोगो की हरकतों को देखते हुए ठीक भी है लेकिन क्या नियमो का पालन करना सिर्फ आम जनता की जिम्मेदारी है. मप्र के सीएम  शिवराज सिंह की लापरवाहियों और मनमर्जियों को देख कर ऐसा कहा जा सकता है . जी हां जहा एक ओर सारा प्रदेश लाक डाउन का पालन कर रहा है वही येन केन प्रकारेण फिर से सीएम बने शिवराज फुले नही समां रहे है और उन्होंने अपनी इस ताज पोशी का जश्न कोरोना काल में भी मना ही लिया.

भोपाल में एक शानदार समारोह में शिवराज ने कार्यकर्ता को सम्मानित करने और उनका आभार जताने के लिए शानदार समारोह का आयोजन करवाया. अब इसका खर्च वर्च तो छोडो यह सब हुए कोरोना काल के दौरान. आखरी ऐसा क्या था की यह सब कोरोना के खतरे को नजरंदाज कर के करना ही पड़ा. अब सवाल पूछने वालों को फिर से देशद्रोही करार देकर पल्ला झाडा जा रहा है. वेसे शिवराज का शपथ ग्रहण समारोह भी पीएम मोदी के सामाजिक दुरी के आदेश की धज्जिय उड़ाने वाला ही रहा था.

अब आपको याद दिला दे कि कहा तो यह भी जा रहा है कि इन्ही शिवराज को मप्र का राज दिलवाने के लिए ही तो लाक डाउन में देरी की गई थी . विपक्ष की माने तो कमलनाथ सरकार को गिराने और शिवराज सरकार बनाने में जो समय बिता वह ही कोरोना के फैलाव का मुख्य कारण है . विपक्ष का आरोप है कि एक राज्य की सत्ता के लालच में बीजेपी ने पुरे देश को खतरें में डाल दिया .

Share.