कांग्रेस की कसम, नहीं पहनूंगा जूते

0

मध्यप्रदेश की सत्ता से 15 सालों तक बेदखल रहने वाली कांग्रेस ने आखिर सत्ता हासिल कर ही ली। कांग्रेस पार्टी की इस जीत में जितना योगदान शीर्ष नेतृत्व का रहा, उतना ही योगदान पार्टी कार्यकर्ताओं ने भी दिया। अपनी पार्टी को 15 साल के वनवास से मुक्ति दिलाने (Congress Worker Durgalal Kirri’s Unique Oath ) और वापस मध्यप्रदेश की सत्ता में काबिज करने के लिए हर कार्यकर्ता ने जी-तोड़ मेहनत की। निष्ठा और समर्पण भाव से पार्टी के लिए मेहनत करने वाले ऐसे ही एक कार्यकर्ता का सम्मान आज प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किया।

दरअसल, राजगढ़ से कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता दुर्गालाल किरारी ने पार्टी के सत्ता से बेदखल हो जाने पर एक अनूठी शपथ (Congress Worker Durgalal Kirri’s Unique Oath ) ली थी। किरारी ने शपथ ली थी कि जब तक कांग्रेस पुनः प्रदेश की सत्ता में काबिज नहीं हो जाती, तब तक वे जूते नहीं पहनेंगे। 15 सालों के कड़े संघर्ष और इंतज़ार के बाद यह दिन आया तो प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह खुद इस कार्यकर्ता को जूते पहनाने पहुंचे। कमलनाथ ने किरारी के संकल्प को सलाम करते हुए जूते पहनाए और उनका सम्मान किया।

https://twitter.com/OfficeOfKNath/status/1077825971598704640

गौरतलब है कि दुर्गालाल किरारी (Congress Worker Durgalal Kirri’s Unique Oath ) पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के कट्टर समर्थक हैं और अपने आदर्श दिग्विजय सिंह के पदचिन्हों पर चलते हुए उन्हीं की तरह शपथ ली। जिस तरह कांग्रेस की हार के बाद दिग्विजयसिंह ने शपथ ली थी कि वे दस साल तक चुनाव नहीं लड़ेंगे, वैसे ही किरारी ने जूते न पहनने की शपथ ली। इस जीत के साथ ही दोनों की शपथ भी पूरी हुई।

हाईकोर्ट ने भूतों को दी जमानत…

नए सीएम की अपने नए मंत्रियों को सलाह

पटवारी को जल संसाधन तो शर्मा को स्कूल शिक्षा…

Share.