कांग्रेस की सोशल मीडिया टीम को हिदायत

0

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव इस बार काफी हद तक सोशल मीडिया के माध्यम से भी लड़ा जाएगा। यही कारण है कि कांग्रेस इस बार अपनी सोशल मीडिया टीम के माध्यम से भाजपा को घेरने की तैयारी में है। हमेशा की तरह भाजपा से पीछे नज़र आने वाली कांग्रेस ने यहां भी कोई खास तरक्की नहीं की है। कमलनाथ ने अपनी सोशल मीडिया टीम की इसी निष्क्रियता के चलते उन्हें फटकार लगाई।  कमलनाथ ने सोशल मीडिया टीम के सदस्यों को निर्देश दिए की प्रदेश के युवाओं और सभी वर्ग को टारगेट करते हुए अपने काम को आगे बढ़ाए।

विधानसभा चुनाव में जीत की तैयारियों में जुटे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ बुधवार को अपनी ही सोशल मीडिया टीम से नाराज हो गए। पीसीसी कार्यालय में हुई पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने अपनी सोशल मीडिया टीम के कामकाज को लेकर नाराज़गी जाहिर की। इस दौरान अपने कार्यकर्ताओं से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा की टीम से कांग्रेस की टीम कमजोर है।

कमलनाथ ने अपनी टीम के सदस्यों को निर्देश दिए कि वे सोशल मीडिया पर हमेशा अपडेट रहें। प्रदेश के जो भी बड़े मुद्दे हैं उनपर सरकार को घेरा जाए। सभी कार्यकर्ता मुख्यमंत्री के बयानों पर नज़र रखें और शिवराज सरकार और भाजपा के खिलाफ ज्यादा आक्रामक हों।  उन्होंने कहा है कि भाजपा के झूठ का हमें जवाब देना है और वह भी आक्रामकता के साथ।

कमलनाथ की एक दूसरी टीम सोशल मीडिया के कामकाज की मॉनिटरिंग भी कर रही है, कमलनाथ ने टीम के सदस्यों को यह मॉनिटरिंग रिपोर्ट भी  दिखाई।

दरअसल कमलनाथ अपनी टीम की कार्यशैली से संतुष्ट नहीं है। उन्होंने इसके लिए सोशल मीडिया टीम को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया है। कमलनाथ ने शोभा ओझा और नरेंद्र सलूजा को इस टीम के मॉनिटरिंग की ज़िम्मेदारी सौंपी है।

गौरतलब है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ लगातार ट्विटर और दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भाजपा के खिलाफ रोजाना ही कुछ ना कुछ जानकारी साझा करते हैं। इस दौरान प्रदेश के प्रमुख मुद्दों पर उनकी नज़र होती है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा कमलनाथ के लिए सोशल मीडिया देखने का काम करते हैं। अब कमलनाथ की चाह है कि विधानसभा चुनाव में उनकी टीम भी भाजपा को उसके ही अंदाज़ में जवाब दे।

कांग्रेस ने किया प्रदेश को बर्बाद – उमाशंकर गुप्ता

पूर्व मंत्री शैलेंद्र जोशी की कांग्रेस में वापसी

Share.