कंप्यूटर बाबा की संपत्तियों पर दूसरे दिन भी कार्रवाई

0

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी के खिलाफ होना किसी आदमी को कितना भारी पड़ सकता है इसका जीता जागता उदाहरण कंप्यूटर बाबा के नाम से प्रसिद्ध नामदेव दास त्यागी हैं.कभी मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कंप्यूटर बाबा की भक्ति करते नहीं थकते थे, लेकिन अब जब बाबा उनके खिलाफ हो गए हैं तो शिवराज उनकी अवैध संपत्तियों पर मध्य प्रदेश प्रशासन की कार्रवाई करवाने से नहीं चूके.

आज कार्रवाई का दूसरा दिन था और मध्य प्रदेश प्रशासन के लोगों ने कंप्यूटर बाबा की एक और संपत्ति पर कार्रवाई की, जिसके तहत सुपर कॉरिडोर में इंदौर विकास प्राधिकरण की 151 योजना में शामिल लगभग पांच करोड़ रुपये मूल्य की 20 हज़ार वर्गफीट ज़मीन मुक्त कराई गई है. कम्प्यूटर बाबा पर 46 एकड़ गोशाला की जमीन पर कब्जा करने का आरोप है.इससे पहले रविवार को कंप्यूटर बाबा द्वारा करीब 46 एकड़ जमीन पर की गई अतिक्रमण पर कार्रवाई करते हुए 80 करोड़ मूल्य की जमीन को अतिक्रमण से इंदौर प्रशासन ने खाली करवा लिया था. इसके अलावा कंप्यूटर बाबा पर धारा 151 के तहत कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भी भेज दिया गया है.

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष, महामंडलेश्वर नरेंद्र गिरी जी महाराज ने कंप्यूटर बाबा के खिलाफ इस कार्रवाई को सही ठहराते हुए कहा कि कंप्यूटर का नाम ही अजीबो गरीब है. गोशाला की जमीन पर कंप्यूटर ने आधुनिक महल बना रखा था. आश्रम में बहुत सी अमर्यादित वस्तुएं मिली हैं, जो संतो के पास नहीं होनी चाहिए. कंप्यूटर अपने फायदे के लिए राजनीतिक दामन बदलता रहता था.बता दें, कंप्यूटर बाबा को 2018 में तत्कालीन शिवराज सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया था. लेकिन 2018 विधानसभा चुनाव से ठीक पहले शिवराज सिंह से उनकी अनबन हो गई और उन्होंने चुनाव के दौरान कांग्रेस का साथ देने का प्रण लिया बस यही से दोनों के बीच दरार पैदा हो गई.

Share.