CBSE: पहले थे कम नंबर, रिचेकिंग के बाद बनी टॉपर

0

सीबीएसई पुनर्मूल्यांकन – केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने कक्षा 12वीं के नतीजे घोषित किए थे| उन नतीजों से बहुत से विद्यार्थी संतुष्ट नहीं थे| इसके बाद असंतुष्ट विद्यार्थियों ने पुनर्मूल्यांकन के लिए आवेदन किया| अब सीबीएसई पुनर्मूल्यांकन के नतीजे आने के बाद बोर्ड द्वारा बरती गई लापरवाही सामने आ गई है| कई विद्यार्थी जिनके कम नंबर थे, अब वे टॉपर बन गए हैं|

सीबीएसई पुनर्मूल्यांकन का हुआ फायदा

सीबीएसई पुनर्मूल्यांकन के नतीजे आने के बाद आवेदन करने वाले 50 फीसदी से अधिक विद्यार्थियों के रिजल्ट में बदलाव हुआ है| रिवैल्यूएशन का रिजल्ट आने के बाद कई नए टॉपर्स सामने आए हैं, जिन्हें पहले टॉपर घोषित किया गया था, उनकी रैंक कम हो गई है| महारष्ट्र के नागपुर में भी टॉपर का नाम बदल गया| नए परिणाम के अनुसार, अब इश्रिता गुप्ता नागपुर की टॉपर बन गई है| इश्रिता ने बताया कि पहले वह अपने रिजल्ट से खुश नहीं थी क्योंकि उसे सभी विषयों में 95 से अधिक अंक मिले थे और राजनीतिक विज्ञान विषय में कम नंबर थे| इसके बाद जब सीबीएसई पुनर्मूल्यांकन किया गया तो इश्रिता के 22 अंक बढ़ गए और वह टॉपर बन गई|

4632 छात्रों के बढ़े नंबर

रीवैल्युएशन के लिए 9,111 छात्रों ने आवेदन किया था, जिनके पेपर वापस चेक किए गए और 4632 छात्रों के नंबर बदल गए हैं| सभी नतीजों में एक गलती सामने आई है कि विद्यार्थियों के सही जवाब पर भी शून्य नंबर दे दिए गए थे|

शिक्षकों पर गिरी गाज़

बोर्ड ने गलतियों को लेकर 214 टीचर्स के खिलाफ कार्रवाई भी की है| इस बार 12वीं की परीक्षा में कुल 83.01 प्रतिशत छात्र-छात्राएं उत्तीर्ण हुए| वहीं गाजियाबाद की मेघना श्रीवास्तव ने 500 में 499 अंक प्राप्त कर टॉप किया था| बोर्ड के सेक्रेटरी अनुराग त्रिपाठी ने इस मामले में सफाई देते हुए कहा कि हर पेपर को चेक करने के लिए 2 टीचर्स को रखा गया और इसमें 99.6 पर्सेंट कॉपियों को सही तरीके से दोबारा चेक किया गया|

Share.