अब गरीब मुसलमानों के लिए मांगा आरक्षण

0

बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने अब 2019 के आम चुनाव पर नज़र रखते हुए नया दांव खेला है। मायावती ने एससी-एसटी विधेयक में संशोधन का स्वागत करते हुए एक नया मुद्दा उठाया है। उन्होंने आर्थिक आधार पर अल्पसंख्यकों को आरक्षण दिए जाने की मांग का समर्थन करते हुए कहा है कि गरीब मुसलमानों के लिए भी  आरक्षण की व्यवस्था होनी चाहिए।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा, ‘यदि केंद्र सरकार उच्च जाति के गरीब लोगों को संविधान में संशोधन के जरिये आरक्षण देने के लिए कोई कदम उठाती है तो बीएसपी इसका सबसे पहले समर्थन करेगी।’ साथ ही मायावती ने कहा कि मुस्लिम व अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों में काफी गरीब हैं। ऐसे में यदि केंद्र सरकार उच्च जाति के लिए कोई कदम उठाती है तो मुस्लिमों व दूसरे धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए भी आरक्षण की व्यवस्था की जानी चाहिए।

वहीं अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति संशोधन विधेयक का स्वागत करते हुए सुप्रीमो मायावती ने राज्यसभा से इस संशोधन के पास होने की उम्मीद जताई। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इस दौरान दलितों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी। उन्होंने कहा कि दलितों ने जो भारत बंद बुलाया था, यह उसका असर है। मायावती ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को भी इसका श्रेय दिया।

गौरतलब है कि सुप्रीमो मायावती ने दिल्ली में कहा, “एससी/एसटी संशोधन बिल का हम स्वागत करते हैं। हम इस बिल के राज्यसभा से पास होने की भी उम्मीद करते हैं। इसके लिए हम 2 अप्रैल को बुलाए गए भारत बंद का असर मानते हैं, जिसमें बीएसपी कार्यकर्ताओं के साथ देश की जनता ने भाग लिया और केंद्र सरकार को मजबूर किया।” मायावती के मुसलमानों को साधने का यह प्रयास 2019 लोकसभा चुनाव के चुनावी फायदे ते तौर पर भी देखा जा रहा है।

यह खबर भी पढ़े – राहुल को विदेशी बताया, मायावती ने निकाला

यह खबर भी पढ़े- “भाजपा ज्वाइन करूं या नहीं, काम मोदीजी के लिए ही करूंगा”- अमरसिंह

यह खबर भी पढ़े – राहुल की तैयारी, मध्यप्रदेश में करेंगे हाथी की सवारी

Share.