बुलंदशहर : हिंसक विरोध प्रदर्शन में गई इंस्पेक्टर की जान

2

उत्तरप्रदेश के बुलंदशहर में गोहत्या का मामला हिंसात्मक हो गया है। बुलंदशहर के स्याना कोतवाली क्षेत्र में मृत गायों के अवशेष मिलने पर कई हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं ने अवैध बूचड़खानों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। अवैध बूचड़खानों को लेकर प्रदर्शन कर रहे सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने थाने का घेराव किया और जमकर उत्पात मचाया। देखते ही देखते यह विरोध हिंसात्मक प्रदर्शन में तब्दील हो गया। प्रदर्शनकारियों में बजरंग दल व युवा वाहिनी के सैकड़ों कार्यकर्ता शामिल थे। इस हिंसात्मक प्रदर्शन में  इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की मौत हो गई जबकि 2 अन्य लोग घायल हो गए।

गौरतलब है कि अवैध बूचड़खानों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों ने थाने का घेराव कर हमला बोल दिया और थाने में जमकर तोड़फोड़ की। पुलिस वाहनों को भी प्रदर्शनकारियों ने निशाना बनाया और एक पुलिस वैन में आग लगा दी। बेकाबू भीड़ पर नियंत्रण पाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। पुलिस ने भीड़ पर जमकर लाठियां भांजी। लाठीचार्ज से भीड़ और भड़क गई और आक्रोशित लोग पुलिस से भिड़ गए। इस झड़प के दौरान भीड़ में से किसी शख्स ने फायरिंग कर दी। इस फायरिंग में स्याना के पुलिस इंस्पेक्टर गंभीर रूप से घायल हो गए। घायल इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की इलाज के दौरान मौत हो गई। भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस की तरफ से भी फायरिंग की गई, जिसमें 2 लोग घायल हो गए।

मिली जानकारी के अनुसार, स्याना कोतवाली क्षेत्र के एक खेत में मृत गाय के अवशेष मिले थे, जिसे लेकर लोगों ने जाम लगा दिया और विरोध प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन के दौरान पुलिस और भीड़ में झड़प हो गई। अब हिंसात्मक हो चुके इस प्रदर्शन को काबू करने के लिए मौके पर भारी तादाद में पुलिस बल तैनात किया गया है। वहीं हालत काबू से बाहर होते देख मेरठ के एडीजी भी बुलंदशहर के लिए निकल चुके हैं। बुलंदशहर में बेहद ही तनावपूर्ण माहौल बना हुआ है।

बुलंदशहर : पुलिस वैन तोड़ने वाले 6 कांवड़िये गिरफ्तार

बुलंदशहर में बस ने कांवड़ियों को रौंदा, 2 की मौत

दो लड़कों ने राख़ कर दिया संविधान

Share.