शिवराज को भाजपा की ना

1

मध्यप्रदेश के ‘मामा’ यानी पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की आभार यात्रा पर तलवार लटक रही है। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज की इस यात्रा के खिलाफ है। संगठन की प्राथमिकता लोकसभा चुनाव है और ऐसे में शिवराज की आभार यात्रा पर संकट के काले बादल मंडराने लगे हैं।

विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह पूरे प्रदेश में अपनी आभार यात्रा निकालने जा रहे थे। चौहान की इस आभार यात्रा की घोषणा भी की जा चुकी थी। मध्यप्रदेश के लोकप्रिय मुख्यमंत्री रहे शिवराजसिंह चौहान चुनाव के बाद लोगों का आभार व्यक्त करना चाहते थे और इसी वजह से वे  आभार यात्रा निकालने वाले थे। शिवराजसिंह अपनी इस यात्रा के माध्यम से लोकसभा चुनाव की तैयारी में अभी से अपनी ताकत झोंकना चाहते थे।

एक तरफ जहां चौहान इस यात्रा से लोकसभा चुनाव की नींव मजबूत करना चाहते थे वहीं दूसरी ओर उनका मकसद मध्यप्रदेश की जनता को यह बताना था कि यह हार उनकी व्यक्तिगत हार नहीं है। शिवराज सिंह चौहान जनता को यह सन्देश देना चाहते थे कि उन्होंने कांग्रेस को बेहद कड़ी टक्कर दी। शिवराजसिंह चौहान मध्यप्रदेश की जनता को इतने सालों तक भाजपा पर भरोसा जताने के लिए धन्यवाद देना चाहते थे। संगठन इस यात्रा से ज्यादा अहमियत लोकसभा की तैयारियों को देना चाह रहा है। चौहान की यह यात्रा प्रदेश के सभी 52 जिलों से गुजरने वाली थी। हालांकि अभी तक इस संबंध में कोई भी आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है।

जब मिल बैठे दो पूर्व सीएम

क्या कांग्रेस ने तोड़ दिया सज्जनकुमार से नाता ?   

‘नाथ’ का हाथ, किसानों और युवाओं के साथ

Share.