आपदा में अवसर:वैक्सिंग के नाम पर वोट मांगती बीजेपी की बड़ी मुश्किलें

0

भारतीय जनता पार्टी बिहार चुनाव में विकास के मुद्दे को छोड़कर अब वैक्सीन को हथियार बनाकर वोट मांगते नजर आ रही है. संकल्प पत्र जारी करने के साथ ही बीजेपी एक नए विवादित मुद्दे के साथ फंसती नजर आ रही है ,क्योंकि उसने अपने संकल्प पत्र में वादा किया है कि सत्ता में आने पर वो सभी बिहारवासियों को कोरोना वैक्सीन का मुफ्त में टीकाकरण उपलब्ध करवाएगी.हालांकि शायद बीजेपी भूल गए क्या अभी तो विश्व में कोरोना वैक्सीन बनी  ही नहीं है.

इसके अलावा अब इसी वादे पर देश के अलग-अलग राज्यों में बवाल मचा है और इस महामारी का इस तरह चुनावी फायदा लेने का आरोप के साथ बीजेपी अब घिरते नजर आ रही है.केरल कर्नाटक और मध्य प्रदेश तक विपक्ष ने बीजेपी को कह रहा है.वहीं चुनाव आयोग में बीजेपी की शिकायत भी की गई है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सरकार पर तंज कसा है कि कोरोना वैक्सीन बांटने की नीति यही है कि जहां चुनाव होंगे, वहां पहले देंगे. दूसरी ओर महाराष्ट्र में शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा है कि बीजेपी सरकार इलाज के नाम पर भी बंटवारा कर रही है और ये कहना चाह रही है कि जो बीजेपी को वोट देगा उसे ही वैक्सीन मिलेगी. 

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा है कि बीजेपी बिहार में मुफ्त में वैक्सीन बांट रही है, क्या कर्नाटक में भी चुनाव होने पर ही वैक्सीन मिलेगी. मैं चाहूंगा कि राज्य के सभी बीजेपी विधायक, सांसद और सीएम मुफ्त में केंद्र से वैक्सीन मांगें.मध्य प्रदेश में उपचुनाव के प्रचार में लगे बीजेपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस दौरान ऐलान किया कि जैसे ही देश में वैक्सीन बन जाएगी और उसे मंजूरी मिल जाएगी. मध्य प्रदेश में सरकार उसे मुफ्त में लोगों तक पहुंचवाएगी. 

बाद में उन्होंने कहा कि मुफ्त में वैक्सीन देने के लिए फोकस गरीबों पर रखा जाएगा.पहली बात तो यह है कि जो वैक्सीनअभी तक बन ही नहीं है उसका वादा बीजेपी नेता किस तरह से कर रहे हैं और अगर सिर्फ बीजेपी शासित प्रदेश ही इसके हकदार है तो बाकी जनता का कौन मालिक होगा?

Share.