कांग्रेस के साथ बिहार में न हो टूट की घटना, सुरजेवाला पहुंचे पटना

0

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मतदान समाप्त हो चुका है. 243 विधानसभा सीटों के लिए मतदान के बाद सभी को चुनाव नतीजो का इंतजार है जो 10 नवंबर को आने हैं. लेकिन मतदान के बाद आने वाले एग्जिट पोल ने बीजेपी के कान खड़े कर दिए हैं क्योंकि एग्जिट पोल के अनुसार एनडीए को इस बार सत्ता से दूर रहना पड़ सकता है, मतलब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की विदाई एग्जिट पोल तय मान रहे हैं और महागठबंधन बड़ी जीत के साथ बिहार की सत्ता पर काबिज हो सकता है.

अब इस बात को लेकर अपनी पुरानी फितरत के चलते बीजेपी जोड़-तोड़ की राजनीति में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी और यही बात कांग्रेस के लिए चिंता का विषय बना हुआ है. महागठबंधन की सरकार बनने के संकेत से उत्साहित कांग्रेस को अब अपने विधायकों के बीजेपी में शामिल हो जाने या टूट जाने का भय सता रहा है जो वाजिब भी है क्योंकि इससे पहले मध्य प्रदेश कर्नाटक जैसे राज्यों में बीजेपी कांग्रेस को इस तरह से भी चोट दे चुकी है.

एग्जिट पोल में सत्ताधारी जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के बीच करीबी लड़ाई विधायकों की खरीद-फरोख्त के प्रयास को तेज करेगी.इस आशंका के चलते कांग्रेस हाईकमान ने रणदीप सुरजेवाला को बिहार के लिए भेज दिया है वे पटना पहुंच चुके हैं.महागठबंधन में आरजेडी के साथ ही कांग्रेस और वाम दल शामिल हैं, जबकि एनडीए में जेडीयू, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी), जीतनराम मांझी की पार्टी हम, मुकेश सहनी की विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) हैं. बताने की बिहार विधानसभा चुनाव में बहुमत के लिए 122 सीट का जादुई आंकड़ा अब दोनों खेमों के लिए मुख्य लक्ष्य बना हुआ है.ऐसे में कांग्रेस आलाकमान पहले सगाई हुई चोटों से सीख लेते हुए समय रहते ही अपनी तैयारी में जुट गया है

Share.