China Gold Scam 2020 : 83 टन नकली सोना, देश के इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला

0

चीन के गोल्ड रिजर्व का 4 फीसदी से ज्यादा लगभग 83 टन सोना नकली (China Gold Scam 2020) है. चीन की एक बड़ी ज्वेलरी कंपनी ने अपने देश को यह चुना लगाया है. इस कंपनी का हेडक्वार्टर वुहान में है. एक चीनी वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक किंगोल्ड (Kingold) ज्वेलरी कंपनी वुहान में है. इसने चीन की 14 फाइनेंशियल कंपनियों (शैडो बैंक) से पिछले पांच सालों में 2.8 बिलियन डॉलर यानी 21,148 करोड़ रुपए का लोन लिया. कंपनी ने 83 टन नकली गोल्ड बार (सोने की ईंटें या बिस्किट) जमानत के तौर पर रखे. यह इस देश के इतिहास का सबसे बड़ा सोने का घोटाला माना जा रहा है.

अनलॉक-2 में हुए एटीएम, बेंक और रेल सेवाओं के नियमो में यह बदलाव

किंगोल्ड ज्वेलरी कंपनी नैसडैक स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड है. यह सोने के मामले (China Gold Scam 2020) में दुनिया की सबसे बड़ी निजी कंपनी है . मार्केट कैप 8 मिलियन डॉलर यानी 60.41 करोड़ रुपए है. कंपनी के मालिक हैं पूर्व मिलिट्री अफसर जिया झिहोंग ने 16 बिलियन युआन यानी 17,017 करोड़ रुपए के लोन के लिए जमानत, सिक्योरिटी और बीमा के नाम पर 83 टन सोने की ईंटें-बिस्किट रिजर्व में रखवाए जो जांच में तांबे के निकले . लोन 30 बिलियन युआन यानी 32,073 करोड़ वसूला जाएगा. वसूली चीन की बीमा कंपनी पीआईसीसी प्रॉपर्टी एंड कैजुल्टी कोऑपरेटिव लिमिटेड को दिया गया है.

तमिलनाडु: पावर प्लांट में ब्लास्ट से 4 की मौत, 13 घायल

हालांकि किंगोल्ड के मालिक जिया झिहोंग ने फ्रॉड के आरोपों से इंकार किया है. जिया ने कहा कि हमने कहीं भी नकली गोल्ड बार्स नहीं रखे. न ही उसे जमानत के तौर पर उपयोग किया. पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा गोल्ड रिजर्व अमेरिका के पास है. यहां 8134 टन सोना है. दूसरे नंबर पर जर्मनी 3364 टन और तीसरे पर इटली 2452 टन है. चीन 1948.30 टन गोल्ड रिजर्व के साथ छठें नंबर पर है. भारत इस लिस्ट 642 टन सोने के साथ नौवें नंबर पर है.  

Share.