3 मूक-बधिर युवतियों से हरक़त 

0

मूक-बधिर युवती से ज्यादती और छेड़छाड़ के आरोपी अश्वनी शर्मा की काली करतूतों का पिटारा धीरे -धीरे खुलने लगा है | अब तक पुलिस घटना का शिकार हुई 3 युवतियों के बयान मिल चुके हैं| इन तीनों युवतियों ने साइन लेंग्वेज के जरिए अपने बयान दर्ज करवाएं हैं| इस खुलासे के बाद समूचे घटनाक्रम की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है| हालांकि इस मामले में अभी एक और युवती के अलावा कुछ ओर युवतियों के बयान लेना हैं|

अश्लील फिल्में दिखाता था अश्विनी

इस सनसनीखेज घटना का पर्दाफ़ाश इंदौर की दो मूकबधिर बहनों ने किया है| उन्होंने ही अश्विनी की इस काली करतूत को उजागर करते हुए जानकारी दी है कि वो युवतियों को अपने मोबाइल फोन पर अश्लील फिल्में दिखाता था। इस पूरे घटनाक्रम को लेकर समन्वय का काम कर रही मूक-बधिर संस्थान की  मोनिका पुरोहित ने बताया कि पीड़िताओं ने पिछले दिनों इस बात की जानकारी संस्था को दी थी। इसके बाद तुरंत ही संस्था ने पुलिस की मदद से एक पीड़िता को धार से मुक्त करवाया| अश्वनी वर्ष 2016 से हॉस्टल संचालित कर रहा था। पिछले तीन साल में अश्विनी के हॉस्टल्स में रहकर 21 युवतियों  प्रशिक्षण लिया हैं|

एसआईटी का गठन

इस सनसनीखेज़ मामले के खुलासा होने के बाद शासन ने एसआईटी का गठन किया है | इसमें दो एएसपी, दो सीएसपी, दो टीआई और महिला एसआई को शामिल किया गया है| पुलिस अब इस बात का पता लगाएगी कि आरोपी ने कितनी युवतियों को अपना शिकार बनाया हैं| गुरुवार को घटनाक्रम के सामने आने के बाद पुलिस ने क्रिस्टल आईडल पार्क सिटी स्थित अश्वनी के हॉस्टल की जांच की | इसके बाद डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी ने आगे की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया।

अश्विनी रिमांड पर

पुलिस ने अश्वनी को शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से पुलिस को 4 दिन का रिमांड मिला| ीके बाद पुलिस ने पूछताछ शरू कर दी है | पुलिस का कहना है की मामला गंभीर है, जल्द जांच पूरी कर चालान पेश किया जायेगा| इससे पहले धार की छात्रा ने प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट महेंद्र सिंह ऊईके के समक्ष दिए बयान में कहा अश्विन लड़कियों को अपने घर में बंधक बनाकर रखता था| लड़कियों के माता-पिता को पता नहीं चले कि लड़किया हॉस्टल की जगह घर में रह रही है, इसलिए अश्विनी बस स्टैंड से ही लड़कियों को अपने घर ले जाता था।

Share.