website counter widget

Balakot Air Strike : 43 दिन बाद बालाकोट पहुंची मीडिया ने कहा, सब महफूज़ है

0

भारत की ओर से गई एयरस्ट्राइक (Balakot Air Strike) के 43 दिन बाद पाकिस्तानी सरकार ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया के सदस्यों और विदेशी राजनयिकों के साथ पाकिस्तान स्थित बालाकोट के आतंकियों के शिविर पर हमले की जगह का दौरा किया (Pakistan Army Allows International Media To Visit Balakot Madrasa )| एक संवाददाता की रिपोर्ट के अनुसार बताया कि वे मनसेरा के पास की एक जगह पर उतरे| इसके बाद करीब डेढ़ घंटा वह कठिन पहाड़ी रास्तों से मदरसे को नष्ट करने वाली जगह पहुंचे | संवाददाता ने कहा कि वहां केवल कुछ गड्ढे और कुछ जड़ से उखड़े पेड़ देखे| उसने बताया कि पूरा भवन सही सलामत है और इससे सटी मस्जिद में करीब 200 बच्चे पढ़ाई कर रहे थे|

एयरस्ट्राइक में 300 मरे या पेड़ गिरे? : सिद्धू

 पाकिस्तान स्थित बालाकोट में आतंकियों के शिविर पर भारत की एयरस्ट्राइक के 43 दिन बाद बुधवार को पाकिस्तानी सरकार घटनास्थल पर अंतरराष्ट्रीय मीडिया के सदस्यों और विदेशी राजनयिकों को लेकर गई. जम्मू और कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बस के 40 जवानों के शहीद होने के बाद भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को आतंकियों के शिविर पर हमला किया था.

अधिकारियों ने इस दौरे (Pakistan Army Allows International Media To Visit Balakot Madrasa ) में देरी का कारण बताते हुए कहा कि ‘अस्थिर हालात ने लोगों को यहां तक लाना मुश्किल कर दिया था| अब उन्हें लगा कि मीडिया के टूर के आयोजन के लिए यह सही वक्त है| वहीँ ‘संवाददाता ने बताया कि ‘भवन को देखने से ऐसा नहीं लगा कि यह कोई नया-नया बना है या इसने किसी तरह का हमला या नुकसान झेला है| मीडिया कर्मियों ने स्थानीय लोगों से बात करने की कोशिश की तो उनसे कहा गया, ‘जल्दी करें..ज्यादा लंबी बात ना करें|’

Lok Sabha Election 2019 : शहीदों के नाम पर वोट और कांग्रेस चोर…

 हालांकि, बाद में वह इससे पीछे हट गई. इस्लामाबाद से एक हेलीकाप्टर से ले जाए गए बीबीसी हिंदी संवाददाता ने बताया कि वे मनसेरा के पास की एक जगह पर उतरे. इसके बाद करीब डेढ़ घंटा वह कठिन पहाड़ी रास्तों से गुजरे.

गौरतलब है कि जम्मू और कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बस के काफिले पर जैश के आतंकी ने आत्मघाती हमला किया था| जिसमे 40 जवान शहीद हो गए थे|

 संवाददाता ने बताया कि यह जगहें इंसानी आबादी से अलग-थलग थीं. इस इलाके में घर भी एक-दूसरे से दूरी पर स्थित हैं. इसके बाद टीम को उस पहाड़ी पर ले जाया गया जहां मदरसा स्थित है. बीबीसी संवाददाता ने कहा, 'भवन को देखने से ऐसा नहीं लगा कि यह कोई नया-नया बना है या इसने किसी तरह का हमला या नुकसान झेला है.'

इसके बाद भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को आतंकियों के शिविर पर हमला किया और दावा किया था कि बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के ठिकाने पर हमला कर 400 से ज्यादा आतंकी मार गिराए है| इस पर .’पाकिस्तान का जवाब था कि इस हमले में कुछ पेड़ों को नुकसान पहुंचने के अलावा एक आदमी को चोट आई थी लेकिन कोई मारा नहीं गया था|

Today Cartoon : मोदी के नाम से कांपे जहन्नुम के शैतान

 भारत ने जिस मदरसे को नष्ट करने का दावा किया है, उस तक जाने के दौरान मीडिया टीम को तीन अलग-अलग जगहें दिखाई गईं. उन्हें बताया गया कि भारतीय वायुसेना ने यहां पर पेलोड गिराए थे. संवाददाता ने कहा कि वहां केवल कुछ गड्ढे और कुछ जड़ से उखड़े पेड़ देखे.

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.