बैतूल बनेगा काजू हब…

0

मध्यप्रदेश लगातार पांचवीं बार कृषि कर्मण अवॉर्ड लेने वाला पहला राज्य बन गया है। इस अवॉर्ड के साथ ही एमपी ने पंजाब-हरियाणा को गेहूं उत्पादन में पीछे छोड़ दिया है| पारंपरिक खेती के बाद अब प्रदेश ने व्यावसायिक खेती के क्षेत्र में भी अपने कदम बढ़ा दिए हैं| दरअसल, पहली बार बैतूल में व्हाइट गोल्ड यानि काजू की व्यावसायिक खेती शुरू हो गई है| यहां देश के बेस्ट क्वालिटी के काजू (Betul Become Kaju Hub ) की पैदावार होगी|

भारत सरकार के काजू बोर्ड और कई उद्यानिकी क्षेत्र से जुड़े वैज्ञानिकों ने बैतूल ज़िले को काजू उत्पादन के लिए सबसे बेहतर स्थान बताया है| फिलहाल, ज़िले में 400 एकड़ में काजू उत्पादन शुरू किया गया है | अगले पांच साल में इसे बढ़ाकर पांच हजार एकड़ में कर दिया जाएगा| प्राप्त जानकारी के अनुसार, इस दौरान कृषि की आधुनिक तकनीक अपनाई जाएगी, जिससे मौसम की मार से भी फसल को कोई नुक़सान नहीं होगा| ध्यान दिए जाने वाली बात यह है कि काजू की मार्केटिंग भी बैतूल से ही की जाएगी|

देशभर से आए कृषि और उद्यानिकी वैज्ञानिकों ने इस बात पर मुहर लगा दी है कि बैतूल ज़िले (Betul Become Kaju Hub ) का वातावरण और जलवायु व्हाइट गोल्ड यानी काजू के उत्पादन के लिए बेहतरीन साबित हो रही है| इसी कारण अब बैतूल ज़िला मध्यप्रदेश का काजू उत्पादन का एक बड़ा क्षेत्र बनकर उभरा है| ज़िले में अब तक 400 एकड़ में काजू का प्लांटेशन हो चुका है और जल्द ही यह रकबा पांच हजार एकड़ तक होगा| यहां देश का बेहतरीन क्वालिटी का काजू उत्पादित किया जाएगा|

गौरतलब है कि अतिवृष्टि, अनावृष्टि और पाला गिरने जैसी प्राकृतिक आपदाओं के कारण गेहूं, चना और अन्य परंपरागत फसलों को काफी हानि पहुंचती है| इस कारण किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ता है| परंपरागत खेती करने वाले किसान अपनी ज़मीन का पूरी तरह से इस्तेमाल भी नहीं कर पाते हैं, लेकिन काजू उत्पादन में किसानों को केवल अपनी बंजर पड़ी ज़मीनों पर पौधे लगाने होंगे| दो से तीन साल में फसल आने लगेगी|

-अंकुर उपाध्याय

इंदौर लोकसभा में अब इस बात की लड़ाई…

बिजली चोर किसान पहुंचा अदालत फिर हुआ ऐसा…

मप्र : सामने आया एक और घोटाला

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.