टक्कर मारने वाले गिरफ्तार

0

मप्र की राजधानी भोपाल के निशातपुरा क्षेत्र में सुरक्षा के लिए तैनात सहायक उपनिरीक्षक (एएसआई) अमृतलाल भिलाला को आधा किमी तक घसीटने वाले आरोपियों को पुलिस ने 12 घंटे के भीतर गिरफ्तार कर लिया।

मामला शनिवार रात का है| एएसआई भिलाला अन्य पुलिस जवानों के साथ बेस्ट प्राइज़ के पास वाहनों की चेकिंग कर रहे थे, तभी एक कार आई| उसे उन्होंने रोका तो कार चालक ने पहले उन्हें टक्कर मारी| जब वे जमीन पर गिर गए तो उसने उन्हें रौंदने की कोशिश की। भिलाला ने कार का हिस्सा पकड़ लिया तो वाहन चालक उन्हें लगभग आधा किमी तक घसीटता ले गया।

पुलिस ने इस मामले में मयंक आर्य (21), मोहित सिंगरोली (19) और अभिषेक सिंगरोली (21) को गिरफ्तार कर लिया है। घटना के समय कार मयंक आर्य चला रहा था। तीनों बीकॉम के छात्र हैं, जो फिल्म देखकर लौट रहे थे। रास्ते में चेकिंग से बचने के लिए उन्होंने एएसआई को टक्कर मारी और उन्हें घसीटते हुए ले गए।

एएसआई को इन्फेक्शन का खतरा

घटना के बाद एएसआई को नर्मदा अस्पताल में भर्ती करवाया गया। बुरी तरह से घायल भिलाला की डॉक्टरों ने कमर, कूल्हे और अन्य जख्मों की प्लास्टिक सर्जरी की। जमीन में घिसटने से उनके शरीर के पीछे का काफी हिस्सा जख्मी हो चुका है। उनके बाएं पैर में कई जगह फ्रैक्चर आए हैं। अभी सबसे बड़ा खतरा घाव में इन्फेक्शन फैलने का बना हुआ है।

ऐसे हुए गिरफ्तार

वारदात को अंजाम देने वाली कार बैरागढ़ निवासी धर्मचंद्र पिता करमचंद के नाम पर रजिस्टर्ड है। उन्होंने यह गाड़ी अपने सैनिक कॉलोनी निवासी भांजे पंकज बालचंदानी को दी है। पंकज ने पुलिस को बताया कि उसने गरिमा कार डेकोर के मालिक राहुल सिंगरौली को कार सुधारने के लिए दी थी। राहुल से संपर्क करने के बाद पता चला कि गाड़ी उसके चचेरे भाई अभिषेक सिंगरौली के पास दो दिन से है। पुलिस ने अभिषेक के देवकी नगर स्थित मकान पर दबिश दी। यहां से अभिषेक उसके दोस्त मोहित और मयंक को गिरफ्तार किया गया।

Share.