website counter widget

राजस्थान कांग्रेस में फिर कलह

0

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha election 2019 ) में राजस्थान में भी कांग्रेस का हाल अन्य प्रांतों जैसा ही रहा | सूपड़ा साफ परिणामों के चलते अब प्रदेश में फिर सरकार के मंत्रियों का अंदरूनी कलह और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (ashok gehlot) और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट (sachin  pilot) के बीच की दरार सामने आई है| पार्टी का एक गुट प्रदेश नेतृत्व के खिलाफ राहुल गांधी पर दबाव बनाने की कवायद में जुटा है|

PM Modi in Varanasi LIVE Update Video : काशी में नमो

 एक दिन पहले कृषि मंत्री लालचंद कटारिया का इस्तीफा सोशल मीडिया में वायरल हुआ और कहा गया था कि मुख्यमंत्री गहलोत के जरिए इस्तीफा राज्यपाल को भेजा गया है| कटारिया के इस्तीफे के पीछे का कारण बताया जा रहा है कि उनके पास कांग्रेस संगठन में न ऐसा कोई पद था न जिम्मेदारी, जिसके चलते चुनावी हार पर इस्तीफा दिया जाए| प्रदेश में सीएम, प्रदेशाध्यक्ष और 22 मंत्री भी अपने-अपने क्षेत्रों में चुनाव हारे, फिर अकेले कटारिया ही नैतिक जिम्मेदारी क्यों ले रहे हैं? इसके सियासी मायने निकाले जा रहे है|

Indian Cabinet Ministers List 2019 : अमित शाह को मिला गृह मंत्रालय, देखें मोदी के नए केंद्रीय मंत्रियों की सूची!

विधानसभा चुनाव में जीत के बाद सत्ता में आई कांग्रेस पार्टी ने अशोक गहलोत और सचिन पायलट के रूप में एकजुटता का ढोल पीटा था| फिर मुख्यमंत्री पद के लिए दोनों के बीच लंबी सियासत चली| गहलोत जीत गए | पायलट को डिप्टी सीएम की कुर्सी मिली | लेकिन लोकसभा चुनाव में हार के बाद एक बार फिर दोनों आमने-सामने नजर आ रहे है| अब प्रदेश नेतृत्व को लेकर राहुल गांधी पर दबाव बनाने की कोशिशें कई और कांग्रेसी नेता कर रहे हैं जो गहलोत के समर्थक बताए जा रहे |

अब सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने भी बयान दिया है| उन्होंने भी आलाकमान से प्रदेश में गहलोत को ज्यादा ‘फ्री हैंड’ देने की मांग की है|उधर, खाद्य मंत्री रमेश मीणा ने भी ऐसा ही बयान दिया है|उन्होंने कहा है कि ‘हम जिस तरह का सवाल कर रहे हैं यह संपूर्ण संगठन की जिम्मेदारी बनती है ना कि केवल अशोक गहलोत की| इसमें आत्मचिंतन होना चाहिए आत्ममंथन होना चाहिए और हार का विश्लेषण होना चाहिए कि क्या कारण रहे|

Video : जानिये कैसे मुस्लिमों ने रचा 2019 चुनावों का इतिहास

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.