पिता के नाम पर जेटली का कांग्रेस पर वार

0

देश में राजनीति के कई रंग-रूप देखने को मिलते हैं| कभी नेता किसी के परिवार को साधने में लगे रहते हैं तो कभी किसी बयान को| अभी राजनीति में माता-पिता के बयान पर बवाल चल रहा है| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के माता-पिता पर कांग्रेस नेताओं की टिप्पणी का विवाद बढ़ते ही जा रहा है| इस मामले में अब वित्तमंत्री अरुण जेटली का भी बयान सामने आया है| दरअसल, अरुण जेटली ने कांग्रेस पर वंशवाद का आरोप लगाया और कहा कि पार्टी ने कई बड़े नेताओं के योगदान को कम करके दिखाया है|

उन्होंने अपने एक ब्लॉग में लिखा, “लाखों राजनीतिक कार्यकर्ता, जो साधारण परिवार से आते हैं, वे कांग्रेस के लीडरशिप टेस्ट में फेल हो जाएंगे| यहां मेरिट, मेधा कोई मायने ही नहीं रखती है| कांग्रेस केवल एक ग्रेट सरनेम को ही पॉलिटिकल ब्रैंड के रूप में स्वीकार करती हैं| जेटली ने देश को दो बड़े नेताओं के पिता का नाम पूछकर वित्त मंत्री ने कांग्रेस को आड़े हाथों ले लिया|”

उन्होंने अपने ब्लॉग में तीन सवाल भी पूछे –
1-गांधीजी के पिता का क्या नाम था?
2-सरदार पटेल के पिता का क्या नाम था?
3-सरदार पटेल की पत्नी का क्या नाम था?

Arun Jaitley द्वारा इस दिन पोस्ट की गई सोमवार, 26 नवंबर 2018

वित्तमंत्री ने आगे लिखा, “मेरे किसी भी जानकार दोस्त के पास इन सवालों का स्पष्ट उत्तर नहीं था यही कांग्रेस की राजनीति की त्रासदी है| गांधीजी ने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन का नेतृत्व किया था| उन्होंने राजनीतिक जागरूकता, सत्याग्रह और अहिंसा के जरिये लोगों को जगाया| उन्होंने ऐसा माहौल बनाया, जिसके कारण ब्रिटिश का भारत में रहने मुश्किल हो गया| सरदार पटेल का योगदान भी कम नहीं है| स्वतंत्रता सेनानी होने के अलावा वह भारत के डेप्युटी पीएम और गृह मंत्री थे| उन्होंने ब्रिटिश से सत्ता हस्तांतरण पर बात की थी| उन्होंने भारत की 550 रियासतों को एक किया था| गांधीजी के पिताजी का नाम करमचंद उत्तमचंद गांधी, सरदार पटेल के पिता का नाम झावेरभाई पटेल और उनकी पत्नी का नाम दिवाली बा था| हालांकि पटेल की पत्नी की फोटो या उनकी डीटेल तमाम रिसर्च और कोशिशों के बाद भी उपलब्ध नहीं हो पाई है|”

Share.