‘राज’ पर गिरी गाज, गिरफ्तारी वारंट जारी

0

मतदान केंद्र में घुसकर पीठासीन अधिकारी से मारपीट करने के मुक़दमे में अदालत में उपस्थित न होने पर स्पेशल कोर्ट (एमपीएमएलए) ने अभिनेता और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट निकाल दिया है। अब इस मामले में अगले साल 7 जनवरी 2019 को अगली सुनवाई होगी।

वरिष्ठ अभियोजन अधिकारी हरिओंकार सिंह, राधाकृष्ण मिश्र और लाल चन्दन की बात सुनने के बाद यह आदेश स्पेशल कोर्ट के जज पवन कुमार द्वारा जारी किया गया। गौरतलब है कि यह घटना लखनऊ के वजीरगंज थाना क्षेत्र में 2 मई 1996 को घटित हुई थी। उस समय के सपा प्रत्याशी व अभिनेता राजबब्बर पर आरोप था कि उन्होंने मतदान केंद्र में घुसकर पीठासीन अधिकारी के साथ मारपीट की। राजबब्बर ने पीठासीन अधिकारी पर फर्जी वोट डलवाने का आरोप लगाते हुए उसके साथ हाथापाई की।

पहले राजबब्बर द्वारा अधिकारी पर फ़र्ज़ी वोट डलवाने का आरोप लगाया गया, लेकिन जब अधिकारी ने इस बात से इनकार किया तब राजबब्बर ने अपने साथी अरविन्द यादव के साथ मिलकर अधिकारी को पीटा। अधिकारी ने मारपीट करने व आचार संहिता के उल्लंघन करने की धारा में राजबब्बर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी।

इस घटना के मूल दस्तावेज वीरगंज थाने से गायब हो गए थे। सीजेएम द्वारा आदेश दिए जाने के बाद विवेचक अयोध्याप्रसाद वर्मा ने 2003 में इस मामले की प्रमाणित छायाप्रति को कोर्ट में दाखिल किया था। प्रति दाखिल करने के बाद स्पेशल कोर्ट ने राजबब्बर को नोटिस थमा दिया था, लेकिन बावजूद इसके राजबब्बर अदालत में उपस्थित नहीं हुए।

Share.