क्या काश्मीर में हिंदू और सिख असुरक्षित हैं?

0

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज यानी सोमवार को सिख समागम कार्यक्रम में शामिल हुए| उन्होंने वहां लोगों को संबोधित किया और कहा, “जब तक कश्मीर में हिंदू राजा थे तब तक हिंदू और सिख सुरक्षित थे| जब हिंदू राजा का पतन हुआ, हिंदुओं का भी पतन होना शुरू हो गया| आज वहां की क्या स्थिति हो गई है यह छिपी नहीं है| क्या वहां कोई अपने आप को सुरक्षित बोल सकता है? नहीं, हमें इतिहास से सीखना चाहिए|”

काश्मीर की रक्षा के लिए बलिदान

सीएम ने कहा, “गुरुनानक देव महाराज के 550 साल पूरे होने का कार्यक्रम अगले कुछ दिनों में शुरू होने वाला है| गुरुनानक देव से गुरु गोविंद सिंह तक का इतिहास स्वर्णिम रहा है| गुरु तेगबहादुर सिंह ने बलिदान देकर कश्मीर की रक्षा की, लेकिन यह देश स्वतंत्र भारत में कश्मीर को नहीं बचा सका| गुरु तेगबहादुर सिंह ने अपने देश और धर्म की रक्षा के लिए अपने संतानों को न्यौछावर कर दिया|”

सभी को बराबरी का अधिकार

उन्होंने कहा, “सिख समुदाय के लोग अपने देश और धर्म की रक्षा के लिए हमेशा बलिदान देने के लिए तैयार रहते हैं| सनातन धर्म के मुताबिक, अपनों के प्रति कृतज्ञता का भाव होना चाहिए| वर्तमान में जो लोग हिंदू और सिख के बीच किसी तरह का भेदभाव डालने की कोशिश कर रहे हैं, वे गुरू परंपरा का अपमान कर रहे हैं| हर धर्म के लोग बिना बुलाए वहां पहुंचते हैं| वहां हम सभी का बराबर का अधिकार है|” सीएम के इस कार्यक्रम में उनके साथ यूपी के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा, केशव प्रसाद मौर्य और भाजपा के कई कार्यकर्ता शामिल हुए|

Share.