अमृतसर अटैक : ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ से जुड़े तार

0

अमृतसर में हुए ग्रेनेड हमले ने पूरे राज्य को हिलाकर रख दिया| एक बार फिर सभी ने यह सोचने पर मजबूर कर दिया कि आखिर यह हादसा क्यों हुआ| किससे दुश्मनी लेकर हमलावरों ने अटैक किया था, सरकार से या सिखों से| अब अमृतसर अटैक से जुड़े तार सामने आ रहे हैं| इसे पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के नेतृत्व में कराए गए ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ से जोड़ा जा रहा है| दरअसल, पकड़ाए गए आरोपी का संबंध इस ऑपरेशन से जुड़े एक व्यक्ति से है|

जानकारी के अनुसार, अमृतसर के निरंकारी भवन में हो रही सभा के दौरान ग्रेनेड हमला किया गया था| इस मामले में खालिस्तान लिबरेशन फोर्स के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है| पुलिस ने विक्रमजीत सिंह नामक आरोपी को पकड़ा है, जो हादसे में शामिल था| वह हमले के समय बाइक चला रहा था और बाइक की पीछे वाली सीट पर बैठे उसके दूसरे साथी अवतारसिंह ने ग्रेनेड फेंका था|

आरोपी विक्रमजीत से पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की, जिसके बाद उसने कई खुलासे किए| उसने बताया कि हादसे के लिए हरमीतसिंह हैप्पी ने ग्रेनेड उपलब्ध कराया था| पंजाब पुलिस के महानिदेशक सुरेश अरोड़ा ने कहा, “आतंकवादी कार्रवाई को अंजाम देकर पंजाब की शांति को भंग करने का पाकिस्तानी आईएसआई का यह एक प्रयास है| ग्रेनेड फेंकने के बाद दोनों हमलावर विक्रमजीतसिंह की मोटरसाइकिल से खालसा गांव भाग गए थे| उनका संबंध और कई लोगों से हो सकता है|”

अवतारसिंह के पिता ने निभाई ऑपरेशन ब्लू स्टार में अहम भूमिका

जांच में पता चला कि आरोपी अवतारसिंह के पिता गुरदीलसिंह ने 1984 में हुए ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ में बड़ी भूमिका निभाई थी| दरअसल, वे जवानों के उस दल में शामिल थे, जो आतंकियों को मार गिराने के लिए बनाया गया था| ऑपरेशन के खत्म होने के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया था| वहीं कुछ लोगों का कहना है कि वे नौकरी छोड़कर भाग गए थे|

Share.