website counter widget

अयोध्या आतंकी हमले पर फैसला आज !

0

वर्ष 2005 में अयोध्या के राम जन्मभूमि परिसर में हुए आतंकी हमले (ayodhya terrorist attack) के मामले में इलाहाबाद की स्पेशल ट्रायल कोर्ट (Allahabad Special Trial Court) आज फैसला सुना सकती है| सुरक्षा कारणों से स्पेशल कोर्ट नैनी जेल में ही इस मामले की सुनवाई कर रही है| इसी जेल में आतंकी हमले के चार आरोपी बंद हैं| अब इस फैसले को देखते हुए अयोध्या से लेकर प्रयागराज समेत उत्तर प्रदेश के कई जिलों में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए है| जज दिनेश चंद्र की कोर्ट में दोनों पक्षों की बहस 11 जून को ही पूरी हो चुकी है|

आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा द्वारा कराए गए इस हमले में एक टूरिस्ट गाइड समेत 7 लोगों की मौत हुई थी | जबकि पुलिस की जवाबी हमले में 5 आतंकवादी मार गिराए गए थे| वहीं, सीआरपीएफ और पीएसी के 7 जवान गंभीर रूप से जख्मी भी हुए थे|

भूकंप के तेज़ झटकों के कारण 6 की मौत, 75 से अधिक घायल

पांच अभियुक्तों आसिफ इकबाल उर्फ फारुक, मो. शकील, मो. अजीज और मो. नसीम का नामशामिल है जिनके नाम का खुलासा मारे गए आतंकियों के पास से बरामद मोबाइल सिम की जांच से हुआ | 28 जुलाई 2005 को और डा. इरफान को इसके पूर्व ही 22 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था| आरोप है कि इन सभी ने मिलकर हमले की साजिश रची और हथियार जुटाए थे| गौरतलब है कि अयोध्या के राम जन्मभूमि में 5 जुलाई 2005 को हुए आतंकी हमले के मामले में नैनी जेल स्थित विशेष कोर्ट में सुनवाई पूरी हुई | 2006 में फैजाबाद से इलाहाबाद की जिला अदालत में स्‍थानांतरित हुए इस मामले की सुनवाई सुरक्षा कारणों से नैनी सेंट्रल जेल में ही चल रही थी|

कमलनाथ ने अमित शाह को खत में क्या लिखा?

आपको बता दें कि 5 जुलाई 2005 में अयोध्या में हुए आतंकी हमले में 2 बेगुनाहों की मौत हो गई थी और घटना के डेढ़ घंटे बाद की जवाबी कार्रवाई में 5 आतंकी भी मारे गये थे, जबकि कई जवान भी घायल हुए थे| गिरफ्तार आरोपियों को सुरक्षा कारणों से वर्ष 2006 में इलाहाबाद की नैनी सेन्ट्रल जेल शिफ्ट कर दिया गया था| तब से मामला नैनी सेन्ट्रल जेल स्थित स्पेशल कोर्ट में ही चलाया गया|

कमलनाथ सरकार की पहली छमाही ऐसी रही

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.