दिल्ली में हवा की गुणवत्ता खतरनाक, बैन होंगी प्राइवेट गाड़ियां…

2

दिल्ली-एनसीआर में बुधवार को वायु गुणवत्ता का स्तर गंभीर हो गया है। प्रदूषण में हो रही वृद्धि के कारण शहर में धुंध छाई हुई है। शहर में बुधवार सुबह धुंध की एक मोटी परत छाई रही। इस सीजन में पहली बार प्रदूषण टॉप कैटेगरी में पहुंचा है। एक्सपर्ट के अनुसार, प्रदूषण करीब 10 सिगरेट पीने जितना खतरनाक है। बुधवार को दिल्ली में पीएम 2.5 का आंकड़ा 262 और पीएम 10 का आंकड़ा 283 रहा। दोनों ही खराब श्रेणी में आता है।

प्रदूषण की रोकथाम के लिए बनी कमेटी ईपीसीए के अध्यक्ष भूरेलाल ने कहा कि 1 से 10 नवंबर के बीच हमने जिन कदमों का ऐलान किया, उससे यदि हालात नहीं सुधरे तो हमें कुछ सख्त कदम लेने पड़ेंगे। इनमें प्राइवेट गाड़ियों पर बैन शामिल है। ईपीसीए ने गुरुवार से दिल्ली-एनसीआई में कंस्ट्रक्शन, स्टोन क्रशर और हॉट मिक्स प्लांट बैन करने के आदेश दिए हैं।

जानकारों के मुताबिक, धुएं मिली धुंध यानी स्मॉग की वजह से प्रदूषण तत्व वातावरण में काफी नीचे है। दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी ने सरकारी एजेंसियों को ये निर्देश जारी किए हैं कि संवदेनशील क्षेत्रों में गश्त में तेजी लाने के साथ ही प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों पर रोक लगाई जाए।

दिल्ली-एनसीआर में कुल 35 लाख निज़ी वाहन हैं। बता दें कि प्रदूषण से बचने के लिए दिल्लीवासियों से केवल मास्क पर नहीं निर्भर रहने को कहा है। साथ ही बाहर निकलने, टहलने, सुबह की सैर पर नहीं जाने को कहा है। यहां तक दिल्ली में अगरबत्ती, मोमबत्ती और धूपबत्ती आदि को भी जलाने से परहेज करने को कहा गया है। गौरतलब हैं कि मंगलवार शाम को दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) शाम तीन बजे तक 401 दर्ज किया गया था।

केजरीवाल ने प्रदूषण के लिए पड़ोसी राज्‍यों पर लगाए आरोप

Share.